जागरण संवाददाता, फतेहगढ़ साहिब : बुजुर्ग हमारे समाज का अहम अंग हैं इसलिए उनको उचित मान सम्मान देना सबका फर्ज है। बुजुर्गो की सही ढंग से देखभाल करने संबंधी सीनियर सिटीजन एसोसिएशनों के प्रतिनिधियों के साथ मी¨टग की अध्यक्षता करते डिप्टी कमिशनर शिव दुलार ¨सह ढिल्लों ने बचत भवन में कहा कि सरकार की तरफ से अब यह कानून बनाया है कि यदि कोई भी अपने मां बाप को परेशान करता है तो उसके विरुद्ध गैर जमानती वारंट जारी करने के साथ-साथ उसे तीन महीने तक की सजा भी हो सकती है। बुजुर्गो की सुरक्षा के लिए बनाए कानून में किए संशोधन अनुसार जहां पहले बुजुर्गो को पुत्र अथवा बेटी तंग नहीं कर सकते थे, अब बहु और दामाद भी इसमें शामिल कर दिए गए हैं।

किसी भी समय बदल सकते हैं वसीयत

डीसी ने बताया कि कानून अनुसार यदि किसी बुजुर्ग ने अपनी जायदाद पुत्र, बेटी, बहु या दामाद के नाम कर दी हो और बाद में वह उनको परेशान करने लगे तो पीड़ित बुजुर्ग संबंधित एसडीएम के दफ्तर में अपील कर वसीयत को बदलवा सकते हैं।

ओल्ड एज होम के वासियों का नियमित चेकअप करवाएं

ढिल्लों ने सेहत विभाग के अधिकारियों को कहा कि बस्सी पठाना में बने ओल्ड एज होम में रहते बुजुर्गो का नियमित तौर पर मेडिकल चेकअप किया जाए और जरूरत पड़ने पर प्राइवेट डॉक्टरों की वालंटियर तौर पर सेवाएं भी ली जाएं। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को हिदायतें की कि सीनियर सिटीजन जब भी अस्पतालों, बैंकों और सरकारी दफ्तरों में कामों के लिए जाएं तो उनके काम पहल के आधार पर किए जाएं।

सीनियर सिटीजनों के दुखड़ों को पहल

इस अवसर पर सीनियर सिटीजनों ने पेश आ रहीं मुश्किलों के बारे बताया जिस पर डिप्टी कमिशनर ने कहा कि उनकी मुश्किलों को पहल के आधार पर हल किया जाएगा। इस अवसर पर जिला सामाजिक सुरक्षा अफसर जोबनदीप कौर, सुरिन्दर भारद्वाज, सर¨हद एसोसिएशन के प्रधान आरएन शर्मा, महासचिव नकेश जिन्दल, बस्सी पठाना एसोसिएशन के प्रधान पुरुषोत्तम बांसल, महासचिव कृष्ण वर्मा, अशोक सूद, जय कृष्ण, पुरषोत्तम ¨सगला, प्रो. हर्षविन्दर ¨सह, पैरा लीगल वालंटियर रीना रानी, दरबारा ¨सह व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Jagran