संवाद सहयोगी, सरहिद : भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर की बैठक गुरमीत सिंह रुड़की की अध्यक्षता में राष्ट्रीय किसान महा संघ की कॉल पर हुई। बैठक में केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों की आलोचना की गई। इसके बाद आरसीईपी के समझौते के खिलाफ केंद्र सरकार के नाम जिला माल अफसर अमरदीप सिंह थिंद को मांगपत्र दिया गया। महासचिव सुरेंद्र सिंह लुहारी ने बताया कि केंद्र सरकार 16 देशों से आरसीईपी समझौता कर रही है, जिसके तहत गेहूं, चावल और दूध बिना किसी ड्यूटी से ली जाएगी। इससे किसानों और डेयरी फार्मिग को बड़ा नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि सरकार एनजीटी के फैसले को किसानों पर थोपना चाहती है और किसानों की कोई मदद नहीं करना चाहती। उन्होंने कहा कि धान की फसल मंडियों में पहुंच चुकी है, लेकिन अभी तक लिफ्टिंग का कोई इंतजाम नहीं किया गया। इस मौके पर जसवीर सिंह, बलदेव सिंह, गुरदेव सिंह, प्रकाश सिंह, जसपाल सिंह, करनैल सिंह मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!