इकबालदीप संधू, मंडी गोबिदगढ़

लोहा नगरी में स्टेट जीएसटी विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 100 करोड़ का बोगस बिलों का धंधा करने वाली तीन लोहा फर्मो का पर्दाफाश किया है। विभागीय अधिकारियों का मानना है कि यह बिल बिना टैक्स भरवाए आगे काट दिया गए, जिसमें कोई भी माल सप्लाई नहीं किया गया। जबकि उक्त फर्मो ने 96.24 करोड़ रुपये का कैश बैंक से निकाला था, जिससे कोई खरीद नहीं की गई। जिससे साफ है इस बारे में 19.83 करोड़ की टैक्स चोरी गत एक साल में की गई। बोगस बिलों का धंधा करने के आरोप में इन फर्मो के तीन मालिकों को पकड़ कर जेल भेज दिया गया है। यह जानकारी डीसीएससी लुधियाना रेंज पवन गर्ग ने बुधवार को विभागीय अधिकारियों द्वारा शहर में छापेमारी करने के बाद पत्रकारों को दी।

डीसीएससी लुधियाना रेंज पवन गर्ग ने बताया कि छापेमारी के दौरान तरूण स्टील इंडस्ट्री, फॉरचून अलॉयज एंड मैट्ल्स व बॉउंडवेज सेल्स कॉरपोरेशन के रिकार्ड को खंगाला गया। इस दौरान यह तथ्य सामने आए कि इन फर्मो ने सरकार को 19.83 करोड़ के टैक्स का चूना लगाया है। छापामारी टीम में लगभग डेढ़ दर्जन विभागीय अधिकारियों में एसीएसटी मगनेश सेठी फतेहगढ़ साहिब, एसीएसटी वीपी सिगला लुधियाना, एसटीओ अमनप्रीत सिंह फतेहगढ़ साहिब, एसटीओ अरविद शर्मा फतेहगढ़ साहिब, एसटीओ अमन गुप्ता लुधियाना, एसटीओ अमनदीप सिंह लुधियाना, एसटीओ सौरव सिगला लुधियाना, एसटीओ डीपी सिंह मोबाइल विग लुधियाना, एसटीओ जपिदर कौर फतेहगढ़ साहिब, एसटीओ नरेश खोखर फतेहगढ़ साहिब, एसटीओ सोनिया गुप्ता फतेहगढ़ साहिब, एसटीओ अनूपम फतेहगढ़ साहिब व एसटीओ जसमीत सिंह फतेहगढ़ साहिब शामिल थे।

उधर, विभागीय अधिकारियों की टीमें जैसे ही शहर में पहुंचीं तो दो नंबर का धंधा करने वालों में हड़कंप मच गया। विभागीय टीम ने आरोपियों की पहचान तरूण बसी, राजिदर बसी व मनीष पाल के रूप में की है। छापामारी के दौरान उक्त फर्मो का लैपटॉप, बुक्स, मोबाइल फोन, चेक बुक्स कब्जे में लेकर अगली जांच कर शुरू कर दी गई। वहीं विभाग द्वारा गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपियों को अमलोह अदालत में पेश किया गया। जहां से उन्हें 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!