दीपक गर्ग, कोटकपूरा

मोहल्ला निर्माणपुरा में गुरु गोबिद सिंह ट्रस्ट द्वारा संचालित तीन मंजिला केशव विकास पब्लिक हाई स्कूल और सिलाई कढ़ाई सेंटर बहुत कम फीस लेकर बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी दे रहा है। मात्र डेढ़ सौ रुपये महीना फीस लेकर हर प्रकार की सुविधा से परिपूर्ण सिलाई कढ़ाई केंद्र के माध्यम से लड़कियों और महिलाओें को आत्मनिर्भर भी बना रहा है।

स्कूल के आसपास और नजदीक बहुत से ऐसे परिवार रहते हैं, जिनकी आमदनी इतनी नहीं कि वो अपने बच्चों को किन्हीं प्राइवेट स्कूलों में पढ़ा सकें। उन परिवारों को इस स्कूल से काफी सुविधा मिली हुई है। इस स्कूल की स्थापना 1989 में समाजसेवी स्व.ओम प्रकाश ग्रोवर द्वारा की गई थी। दानी सज्जनों का सहयोग मिला, तो स्कूल का विस्तार होता गया। कोटकपूरा के प्रसिद्ध खेमका परिवार के अलावा प्रवासी भारतीय मरवाह परिवार का भी काफी सहयोग इस स्कूल को मिला है। छात्र छात्राओं को स्कूल में अच्छे संस्कार मिलने के साथ साथ धर्म संस्कृति और सभ्याचार के बारे में भी ज्ञान की प्राप्ति हो रही है।

स्कूल की प्रिसिपल सीता रानी ने बताया कि प्री नर्सरी से दसवीं तक शिक्षा दे रहे, इस एसोसिएटेड स्कूल में 450 के लगभग विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। स्कूल की फीस 500-600 रुपये महीना है जो न लाभ न हानि की नीति पर आधारित है। सारा का सारा महिला स्टॉफ काम करता है। इनमे 25 अध्यापक और 4 सेवादार महिलाएं भी हैं। ट्रस्ट के माध्यम से चल रहे इस स्कूल द्वारा एक तरफ 30 महिलाओं को रोजगार मिला हुआ है। बच्चों को कम फीस में बेहतर और सुविधाजनक वातावरण में पढ़ाई करवाई जा रही है।

सिलाई और कढ़ाई की अध्यापिका सर्बजीत कौर ने बताया कि यहाँ पर दो शिफ्टों में औसत 25 से 30 महिलाएं और लड़कियों को सिलाई कढ़ाई की शिक्षा दी जा रही हैं। महिलाएं इस केंद्र से सिलाई कढ़ाई का काम सीख कर अपने पैरों पर खड़ी हो रही हैं। इनसेट

नैतिक शिक्षा पर जोर : सेवा सिंह

स्कूल को चला रही ट्रस्ट के प्रधान सेवा सिंह चावला ने बताया कि ट्रस्ट का उद्देश्य स्लम बस्ती के बच्चों को कम फीस में बेहतर शिक्षा देना है। स्कूल में नैतिक शिक्षा पर बल दिया जाता है। जल्द ही हम स्कूल में स्मार्ट क्लासें और एल ई डी के माध्यम से ई कॉन्टेंट शिक्षा शुरू करने की योजना भी बना रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!