जासं,फरीदकोट

26 नवंबर ''राष्ट्रीय दुग्ध दिवस'' के रूप में मनाया जाता है। भारत के ''मिल्कमैन'' के नाम से मशहूर डा. वर्गीज कुरियन का जन्मदिन राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के रूप में मनाया जाता है। गुजरात के आणंद से डा. वर्गीज कुरियन द्वारा शुरू किए गए सहकारी दुग्ध आंदोलन अभियान के कारण भारत ने विश्व में वर्तमान अवधि के दौरान दूध के उत्पादन में पहला स्थान प्राप्त कर 200 मिलियन टन के रिकार्ड उत्पादन को पार कर लिया है ।

इस उपलब्धि को याद करते हुए नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड (एनडीडीबी) ने डा वर्गीज कुरियन का शुक्रिया अदा करते हुए 26 नवंबर को मोबाइल एप ''कदम फार कुरियन'' लान्च किया है। इस ऐप के माध्यम से ''राष्ट्रीय दुग्ध दिवस'' पर भारत में कुल 200 मिलियन कदम निर्धारित किए गए हैं।

इस अवसर पर फरीदकोट शहर में मिल्क यूनियन फरीदकोट द्वारा ''मिल्कमैन आफ इंडिया'' डॉ वर्गीज कुरियन का धन्यवाद करते हुए एक फुट मार्च का आयोजन किया गया है। दुग्ध संघ फरीदकोट के अध्यक्ष एवं दुग्ध संघ फरीदकोट के महाप्रबंधक डॉ सुरजीत सिंह के मार्गदर्शन में समूह कर्मचारियों ने भाग लिया और पूरे उत्साह के साथ ''राष्ट्रीय दुग्ध दिवस'' मनाया।

दुग्ध संघ फरीदकोट के महाप्रबंधक डा. सुरजीत सिंह ने कहा कि देश में श्वेत दुग्ध क्रांति में डा. कुरियन के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि वेरका कर्मचारियों द्वारा ''कदम के लिए कुरियन'' के इस पैदल मार्च में लोगों के बीच दूध और दुग्ध उत्पादों के स्वास्थ्य लाभ पर प्रकाश डाला गया। इस आयोजन का उद्देश्य ग्राहकों में शुद्ध दुग्ध उत्पादों के बारे में जागरूकता पैदा करना, यह फैलाना है कि वेरका सहकारी एजेंसी किसानों द्वारा संचालित एजेंसी है, जिसका पूरा लाभ दुग्ध उत्पादक किसानों के बीच समान रूप से वितरण कर आर्थिक स्तर को ऊंचा उठाना है।

Edited By: Jagran