जागरण संवाददाता, फरीदकोट : पंजाब को हराभरा रखने व प्रदूषण मुक्त करने के लिए जिला प्रशासन व बीड़ सोसाइटी ने बीड़ घुगियाणा में 10 हजार पौधे लगाए। इस दौरान अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (जनरल) गुरजीत ¨सह ने भी अपने हाथों से पौधा लगाकर इसका रस्मी उद्घाटन किया।

एडीसी गुरजीत ¨सह ने बताया कि मुख्यमंत्री कैप्टन अम¨रदर ¨सह द्वारा मिशन तंदुरुस्त पंजाब मुहिम चलाई जा रही है। जिसके तहत राज्य के सभी नागरिकों को शुद्ध हवा, शुद्ध पानी व संतुलित भोजन के साथ जीने के लिए शुद्ध पर्यावरण मुहैया करवा कर शारीरिक व मानसिक रूप में सुधार लाने को यकीनी बनाया जा रहा है। पर्यावरण को हराभरा व प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए यह प्रोग्राम बनाया गया है, जिसके तहत बीड़ घुगियाणा ने 10 हजार पौधे लगाए जा रहे हैं, ताकि गांवों के लोग सेहतमंद रह सकें और वातावरण में आ रहे बदलाव को ठीक कर सकें। उन्होंने बताया कि जिले में घर-घर हरियाली एप के तहत घरों का सर्वेक्षण करके पौधे वितरण किए गए हैं, जिनमें आम लोगों ने भी काफी दिलचस्पी दिखाई है। इसके अलावा सब मिशन आन एग्रोफारेस्टी के अंतर्गत किसानों को मुफ्त कलोनल सफेदे के पौधे दिए जा रहे हैं और इस स्कीम के तहत शहरी क्षेत्रों में छोटे कद के पौधे और ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा ऊंचाई वाले पौधे सप्लाई किए हैं। जिले में ग्रीन पंजाब मिशन के अधीन 3.17 लाख पौधे तैयार किए गए हैं। उन्होंने सभी से अपील करते हुए कहा कि पौधे लगाने से ज्यादा ध्यान, इनकी संभाल की तरफ दिया जाना चाहिए। यदि हम चाहते हैं कि हमारी आने वाली पीढि़यों के लिए पर्यावरण को संभाल कर रखा जाए तो अभी से हमें सचेत होने की जरूरत है।

इस अवसर पर वन रेंज अधिकारी ते¨जदर ¨सह ने बताया कि पौधे दोनों किस्मों छांदार व फलदार के लगाए जा रहे हैं। जिसमें प्रमुख तौर पर टाहली, नीम, जामुन, अमलतास, किक्कर, अर्जुन व डेक आदि शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जिले में 70 हजार पौधे विभिन्न नर्सरियों में तैयार किए जा रहे हैं। बीड़ सोसाइटी के चेयरमैन गुरप्रीत ¨सह सरां ने बताया कि उनकी सोसाइटी द्वारा इस वर्ष 18 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है और बीड़ घुगियाणा के 30 एकड़ में 10 हजार पौधे लगाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इससे पहले भी 4 हजार पौधे लगाए जा चुके हैं और आने वाले समय के दौरान अन्य 4 हजार पौधे लगाए जाएंगे।

इस अवसर पर गुरप्रीत ¨सह चंदबाजा, सीनियर सदस्य कुलदीप ¨सह पुरबा, हर्मल हल्लन, प्रेमपाल, परमदीप ¨सह, जसपाल ¨सह बराड़, प्रो. मोहन ¨सह, प्रो. नितनेम ¨सह श्री मुक्तसर साहिब, निर्मल ¨सह, मग्घर ¨सह, सेवामुक्त कैप्टन धर्म ¨सह गिल, र¨वदर ¨सह बुगरा व सुधीर कुमार के अलावा भारी संख्या में गांव वासी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran