जागरण संवाददाता, फरीदकोट

बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस फरीदकोट के कांट्रैक्ट कर्मियों द्वारा रेगुलर किए जाने की मांग को लेकर बुधवार दोपहर फरीदकोट नई अनाज मंडी स्थित मंडी बोर्ड की पानी की टंकी पर चढ़ गए। कांट्रैक्ट कर्मी 51 दिनों से मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। कर्मियों की मांग पर यूनिवर्सिटी प्रशासन व प्रदेश सरकार द्वारा हाथ खड़े किए जा चुके हैं।

कर्मचारियों द्वारा अपनी मांगों के लिए साझी मुलाजिम एक्शन कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी की देखरेख में ही कर्मियों का संघर्ष चल रहा है। तीन बार सदस्यों द्वारा मरणव्रत भी रखा और तोड़ा जा चुका है। कर्मियों द्वारा लिए गए निर्णय के तहत देविदर सिंह, रमेश कुमार व दीपक कुमार पानी की टंकी पर ऊपर चढ़ गए जबकि 35 से 40 सदस्य टंकी की सीढि़यों पर बैठे हैं, शेष नीचे यूनिवर्सिटी व प्रदेश सरकार का विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। डीएसपी गुरदीप सिंह के नेतृत्व में पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा, परंतु वह टंकी पर चढ़े कर्मियों को नीचे उतारने में नाकाम रहे।

कांट्रेक्ट कर्मियों की मांग को बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस फरीदकोट व प्रदेश सरकार द्वारा सिरे से नामंजूर कर दिया है। यूनिवर्सिटी द्वारा कहा जा रहा है कि कर्मियों को रेगुलर करनेका अधिकार उनके पास नहीं है। उनकी फंडिग प्रदेश सरकार द्वारा होती है, ऐसे में कर्मियों के रेगुलर करने का मुददा प्रदेश सरकार द्वारा ही हल किया जाएगा। सरकार के साथ पिछले दिनों हुई कमेटी सदस्यों की बैठक में भी रेगुलर किए जाने की मांग से मना कर दिया गया। इनसेट

संघर्ष जारी रहेगा : गुरदयाल सिंह

कमेटी के सदस्य गुरदयाल सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी प्रशासन उनकी मांगों को लेकर गंभीर नहीं है। यूनिवर्सिटी और प्रदेश सरकार उन लोगों को मरने के लिए मजबूर कर रही है, जब तक उनकी मांगों को माना नहीं जाता है वह लोग अपने संघर्ष को इसी तरह से आगे बढ़ाते रहेंगे। इनसेट

नीचे उतारने के प्रयास जारी : एसडीएम

एसडीएम परमदीप सिंह ने बताया कि टंकी पर चढ़े कर्मियों को नीचे उतारने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कांट्रैक्ट कर्मियों को समझाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!