जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : टाउन वेंडिग कमेटी ने वीरवार को हुई बैठक में लोगों की अपील को खारिज करते हुए कहा कि सेक्टर-15 के डीएवी स्कूल के पास ही वेंडिग जोन बनेगा। मालूम हो कि यहां के रेजिडेंट्स यहां पर वेंडिग जोन नहीं बनने देना चाहते हैं जिसके लिए अतिरिक्त कमिश्नर के नेतृत्व में कमेटी का गठन किया था। इस सब कमेटी ने भी यह सिफारिश की थी कि यहां पर ही वेंडिग जोन बनना चाहिए। इस सब कमेटी की रिपोर्ट टाउन वेंडिग कमेटी की बैठक में पेश की गई। बैठक में एसएसपी ट्रैफिक शंशाक आनंद के अलावा अन्य डीएसपी स्तर के अधिकारियों ने भी भाग लिया। टाउन वेंडिग कमेटी ने कहा कि वह वेंडिग जोन में अब कोई बदलाव नहीं कर सकते हैं। मालूम हो कि यह शहर का सबसे बड़ा वेंडिग जोन है जहां पर एक साथ 850 वेंडर्स बैठेंगे। मालूम हो कि यहां पर वेंडिग बनने के खिलाफ रेजिडेंट्स भी पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट में अर्जी दाखिल कर चुके हैं। 2800 के लाइसेंस खारिज

कमेटी ने 2800 उन वेंडर्स के लाइसेंस भी खारिज करने के फैसले पर मुहर लगा दी है। जिन्होंने 30 नवंबर तक अपनी बकाया लाइसेंस फीस जमा नहीं करवाई थी। बैठक में चंद सदस्यों ने यह बात उठाई की बाजारों में छोले-भटूरे और परांठे वालों को बैठे रहने देना चाहिए ताकि लोगों को सुविधा मिल सके। लेकिन यह फैसला हुआ कि अभी सभी वेंडर्स को शिफ्ट कर देना चाहिए, इस तरह के मामलों में बाद में विचार किया जाएगा। इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि जिस तरह से सेक्टर-15 के वेंडिग जोन में पानी और टॉयलेट की सुविधा दी गई है, उसी तरह से अन्य वेंडिग जोन की साइट्स में सुविधा दी जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!