जागरण संवाददाता, मोहाली। शहर में दो इमीग्रेशन कंपनियों की ओर से सैकड़ों युवाओं के साथ लाखों रुपये की ठगी करने का मामला सामने आया है। पहला केस फेज-6 में वीजा नेटवर्क नाम की कंपनी का है, जो कनाडा में वर्क वीजा दिलाने के नाम पर लाखों रुपये फुर्र हो गई है। शुक्रवार को यहां अपना पैसा लेने पहुंचे मनप्रीत सिंह निवासी बठिंडा,  मनोज कुमार निवासी हिमाचल प्रदेश ने बताया कि कंपनी ने मेडिकल के नाम पर पहले अपने ओरिएंटल बैंक खाते में तीन-तीन हजार रुपये डलवाए और उसके बाद 12 दिसंबर को उन्हें मोहाली बुलाया था। कंपनी प्रबंधकों ने उन्हें ऑफर लेटर की एक फोटोकॉपी देकर उनसे 27-27 हजार रुपये जमा करवा लिए।

पीडि़तों के अनुसार उन्हें विदेशी नंबर से एक फोन भी करवाया गया, जिस कारण उन्हें कंपनी पर भरोसा भी हो गया। परंतु बाद में कंपनी द्वारा न तो उन्हें विदेश भेजा गया और न ही उनके पैसे वापस किए गए। धीरज धवन निवासी कालका ने बताया कि कंपनी ने उसे फेसबुक के जरिए कांटेक्ट किया था। बताया कि वह सुपरवाइजर की पोस्ट पर उसे कनाडा भेजेंगे। पहले उसके डॉक्यूमेंट लेकर फिर 30 हजार रुपये मांगे। ऑफर लेटर दिखाया और कहा कि कनाडा में उसकी 5500 कैनेडियन डॉलर सैलरी लगेगी। उसका ए-वन लैबोरेट्री सेक्टर-41 से मेडिकल भी करवाया। बाद में फोन बंद कर लिया, जब दफ्तर पहुंचे तो दफ्तर बंद था।

अखबार में विज्ञापन देख बना शिकार

इसी तरह फेज-5 में द बेस्ट वीजा कंसलटेंसी का शिकार हुए मनदीप सिंह जिला नवांशहर ने बताया कि अखबार में कंपनी का विज्ञापन देखकर वह मोहाली अप्लाई करने आया था। कंपनी ने झूठ बोलकर अब तक उससे 3 लाख 20 हजार रुपये ले लिए हैं। एक साल से वह चक्कर काट रहा है, परंतु आज दफ्तर आकर देखा कि कंपनी अपना सामान लेकर फरार हो चुकी है। उन्होंने एसएसपी मोहाली को इस संबंधी शिकायत दी है।

हमारे पास जिस किसी भी इमीग्रेशन कंपनी की शिकायत आ रही है, कार्रवाई की जा रही है। मेरी अपील है कि सरकार की ओर से मान्यता प्राप्त ट्रैवल एजेंट से ही वीजा अप्लाई करें। जालसाज लोगों से दूर रहें।

-हरचरन सिंह भुल्लर, एसएसपी मोहाली

 

Posted By: Vipin Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!