मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

चंडीगढ़, जेएनएन। सेक्टर-48 स्थित 100 बेड के बनाए गए नए हॉस्पिटल में 15 सितंबर से मरीजों को भर्ती कर इलाज शुरू किया जाएगा। जीएमसीएच-32 के डायरेक्टर प्रिंसिपल डॉ. बीएस चवन ने 12 सितंबर को इसका आदेश जारी किया था। जिसमें वहां शिफ्ट होने वाले चारों डिपार्टमेंट के एचओडी को अपने डिपार्टमेंट से संबंधित सामान को 15 से पहले शिफ्ट करने को कहा गया है।

इस हॉस्पिटल के संचालन का जिम्मा जीएमसीएच को दिया गया है। इसे साउथ कैंपस हॉस्पिटल के नाम से जाना जाएगा। इस हॉस्पिटल में जीएमसीएच के स्किन, साइकेट्रिक, रेडियोलॉजी के साथ ईएनटी डिपार्टमेंट शिफ्ट होंगे। जून में भी जारी हुआ था आदेश प्रशासन द्वारा इससे पूर्व 13 जून को जारी किए गए आदेशों में भी जल्द से जल्द 48 के नए हॉस्पिटल में चारों डिपार्टमेंट शिफ्ट करने को कहा गया था।

बताया गया था कि जीएमसीएच में जगह की कमी और मरीजों के दबाव को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। शिफ्ट होने वाले डिपार्टमेंट के डॉक्टर 48 में ही ड्यूटी करेंगे। ओपीडी के दौरान अगर कोई सीरियस मरीज आया तो उसे जीएमसीएच में शिफ्ट करने से पहले वहां भर्ती करने की सुविधा होगी। उद्घाटन के सात महीने बाद शिफ्टिंग 28 करोड़ खर्च कर 1.73 एकड़ जमीन पर बनाए गए 100 बेड के इस अस्पताल के उद्घाटन के दिन 4 मार्च को पंजाब के गवर्नर और चंडीगढ़ के प्रशासक बीपी सिंह बदनौर ने एक महीने के अंदर सुविधा बहाल करने का वादा किया था। लेकिन उसके बाद 10 सितंबर तक सुविधा शुरू करने का दावा जमीन पर हकीकत नहीं बन सका।

अस्पताल के संचालन के लिए 84 डॉक्टरों के टीम की जरूरत है। इसके लिए प्रशासन को डिमांड भी भेजी गई है लेकिन इतने डॉक्टरों की उपलब्धता सुनिश्चित नहीं हो पा रही है। सूत्रों का कहना है कि फिलहाल जीएमसीएच के नर्सिग और अन्य पैरामेडिकल स्टाफ की ही वहां ड्यूटी लगाई जाएगी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!