जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। Dengue Cases in Chandigarh डेंगू की रोकथाम को जब स्वास्थ्य कर्मी घरों की चेकिंग करते हैं। अकसर शहरवासियों की ओर से घर की चेकिंग करने और डेंगू के लारवा पाए जाने पर कार्रवाई करने पर कर्मचारियों से बहस और झगड़ा तक किया जाता है। इसको ध्यान में रखते हुए अब प्रशासन के स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू पर एपिडेमिक डीजीज एक्ट-1897 के नियम लागू किए हैं। अब स्वास्थ्य कर्मियों के काम में बाधा डालने या फिर उनसे उलझने पर शहरवासियों पर पुलिस केस दर्ज किया जाएगा। एपिडेमिक डीजीज एक्ट के अलावा आईपीसी की धाराओं के तहत ऐसे लोगों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें-  School Reopen: चंडीगढ़ में 19 महीने बाद पहली से चौथी कक्षा के स्टूडेंट्स आएंगे स्कूल, आनलाइन भी होगी पढ़ाई

अगर घर के अंदर चेकिंग करने से किया मना तो सीधा जुर्माना

डेंगू की रोकथाम को लेकर घरों व सोसाइटी के अंदर चेकिंग करने पर अगर कोई व्यक्ति मना करता है।ऐसे में एपिडेमिक डीजीज एक्ट के तहत आरोपित व्यक्ति के खिलाफ सीधा जुर्माना लगाने का प्रावधान तय किया है।अगर कोई व्यक्ति जुर्माना नहीं भरता है और डेंगू की रोकथाम के प्रति लापरवाही बरतता है उसे चालान के अलावा शोकॉज नोटिस भी थमाया जाएगा। इस शोकॉज नोटिस का स्वास्थ्य विभाग को जवाब देना अनिवार्य होगा। जवाब न देने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें-  डेंगू का डंग... चंडीगढ़ में डेंगू मरीजों का आंकड़ा 150 पहुंचा, हेल्थ डिपार्टमेंट ने बनाई 100 टीमें, अब तक 423 लोगों का चालान

जरूरत पड़ने पर हेल्पलाइन नंबर पर करें कॉल

स्वास्थ्य विभाग के मलेरिया विंग की ओर से शहरवासियों के लिए हेल्पलाइन नंबर-7626002036 जारी किया गया है। अगर किसी व्यक्ति को डेंगू से जुड़ी कोई भी समस्या, फॉगिंग या अन्य कोई  शिकायत हैं तो वह इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकता है।

यह भी पढ़ें-  दिहाड़ीदार मजदूर और किसान के बेटों की मेहनत लाई रंग, बॉक्सर कुलदीप और सागर का नेशनल कैंप में सिलेक्शन

 

Edited By: Vinay Kumar