चंडीगढ़/पठानकोट, जेएनएन। मशहूर क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा के बाद उनके फुफेरे भाई की भी मौत हो गई है। उनकी बुआ की भी हालत बेहद गंभीर है। पंजाब के पठानकोट के माधोपुर में इन लोगों पर 19 अगस्‍त को कुछ लोगों ने रात को हमला किया था। इस प्रकरण से आहत सुरेश रैना ने  मंगललवार को एक के बाद एक दो ट्वीट किए। इनमें उन्‍होंने पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और पंजाब पुलिस को टैग किया। इससे हड़कंप मच गया और पंजाब सरकार सक्रिय हो गए। पंजाब के डीजीपी ने पूरी घटना की जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) गठित कर दी है।

12 दिन से निजी अस्पताल में वेंटिलेटर स्पोर्ट पर थे कौशल, चंडीगढ़ रेफर करने से पहले तोड़ दिया दम

बता दें पठानकोट जिले के माधोपुर क्षेत्र के गांव थरियाल में 19 अगस्त की रात को लुटेरों के हमले में घायल हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर सुरेश रैना के फुफेरे भाई कौशल कुमार की सोमवार रात को मौत हो गई। 30 वर्षीय कौशल 12 दिन से पठानकोट के एक निजी अस्पताल में वेंटिलेटर पर थे। हालत गंभीर होने पर डॉक्टर कौशल को पीजीआइ चंडीगढ़ रेफर करने की तैयारी कर ही रहे थे कि उनकी मौत हो गई। हमले में घायल रैना की बुआ आशा देवी की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है और वह भी वेंटिलेटर स्पोर्ट पर हैैं।

इसके बाद मंगलवार को इस घटना से दुखी सुरेश रैना ने पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह और पंजाब पुलिस को टैग करते हुए दो ट्वीट किए। इससे पंजाब सरकार में हड़कंप मच गया। इसके बाद  हमला मामले की जांच के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के आदेश पर डीजीपी दिनकर गुप्ता ने एसआइटी का गठन करने के आदेश दिए।

बार्डर रेंज के आइजी एसपीएस परमार इस एसआइटी का नेतृत्व करेंगे। एसआइटी में एसएसपी पठानकोट गुलनीत खुराना, एसपी (खुफिया) प्रभजोत सिंह विर्क, डीएसपी रविंदर सिंह सहित ऑर्गेनाइज्ड क्राईम कंट्रोल यूनिट (ओकू) को भी शामिल किया गया है। एडीजीपी ईश्वर सिंह जांच पर नजर रखेंगे और डीजीपी खुद जांच की प्रगति की रिपोर्ट हर रोज मुख्यमंत्री को देंगे।

क्रिकेटर सुरेश रैना ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पंजाब पुलिस को टैग करते हुए ट्वीट किया, ‘हमें आज तक पता नहीं कि उस रात क्या हुआ और किसने किया। मैं पंजाब पुलिस से आग्रह करता हूं कि इस मामले पर गौर करे। हमें कम से कम यह जानने का अधिकार है कि यह जघन्य कृत्य किसने किया। ऐसे अपराधियों को और अपराध करने के लिए खुला नहीं छाेड़ा जाना चाहिए।’

 

इसके बाद सुरेश रैना ने एक और ट्वीट किया कि ' पंजाब में मेरे परिवार के साथ जो हुआ, वह भयानक से भी परे था। मेरे फूफा को मौत के घाट उतार दिया गया, मेरी बुआ और मेरे दोनों फुफेरे भाइयों को गंभीर चोटें आईं। दुर्भाग्य से मेरा फुफेरा भाई भी बीती रात जिंदगी के लिए जूझते हुए गुजर गय। मेरी बुआ अभी भी बहुत गंभीर है और लाइफ सपोर्ट पर है।'

बता दें कि रैना के फूफा अशोक कुमार की हमले वाली रात ही मौत गई थी। परिवार के चार लोग घायल हुए थे। अशोक कुमार की माता सत्या देवी और छोटे बेटे अपिन की हालत में सुधार होने पर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। सुरेश रैना की बुआ आशा व फुफेरे भाई कौशल की हालत नाजुक बनी हुई थी। परिजन अशोक कुमार की अस्थियां विसर्जित करने के लिए हरिद्वार गए हुए थे कि इसी बीच कौशल की भी मौत हो गई। बुधवार को कौशल का अंतिम संस्कार किया जाएगा। कौशल प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहता था। सिविल सर्विसेस के लिए कड़ी मेहनत करने के साथ ही ठेकेदारी में पिता का हाथ बंटा रहा था।

तरनतारन, गुरदासपुर और हिमाचल में भी जांच

पहेली बने लूट और हत्या के मामले में पुलिस काला कच्छा गिरोह की थ्योरी पर भी काम कर रही है लेकिन अब तक सफलता नहीं मिली है। तरनतारन, अमृतसर, गुरदासपुर और हिमाचल जाकर में भी घटना के सुराग तलाशने की कोशिश में कुछ हाथ नहीं आया। वहीं, अशोक कुमार के संपर्क भी खंगाले जा रहे हैैं। एसएसपी गुलनीत खुराना ने कहा कि वारदात की हर कड़ी की गंभीरता से जांच की जा रही है। जल्द ही सफलता मिल जाएगी।

पंजाब व हिमाचल की सीमा पर बसे अपराधियों पर नजर : डीजीपी   

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि इस हमले में पंजाब व हिमाचल प्रदेश की सीमा पर बसे अपराधियों के शामिल होने की संभावना है। आपराधिक रिकार्ड वाले 35 लोगों को राउंडअप करने के अलावा हिमाचल प्रदेश व उत्तर प्रदेश के कुछ संदिग्धों को भी चिन्हित किया है। अशोक कुमार के पास काम करने वाले छह मजदूरों से भी पूछताछ हुई है। क्षेत्र के मोबाइल टॉवर के डंप और लोकेशन के तकनीकी विश्लेषण के साथ ही घटना वाले क्षेत्र, आर्मी व बीएसएफ क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग भी खंगाली जा रही है। हमलावरों द्वारा घटना की रात तीन और घरों में लूटपाट करने की योजना के सुराग भी मिले हैं।

-------

राज्य में कानून व्यवस्था ध्वस्त होने से रैना के रिश्तेदारों का हुआ कत्ल : मजीठिया

शिरोमणि अकाली दल के विधायक बिक्रम ङ्क्षसह मजीठिया का कहना है कि राज्य में कानून व्यवस्था के ध्वस्त होने के कारण प्रसिद्ध क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा और फुफेरे भाई का कत्ल हुआ। इससे स्पष्ट संकेत मिलता है कि राज्य में शासन कर रहे लोगों ने खुद को तो बंद कर लिया है और लोगों को उनके भाग्य के सहारे छोड़ दिया है।

मजीठिया ने कहा कि राज्य में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। जालंधर में एक लड़की को गत दिवस छीनाझपटी की घटना में लुटेरों से बचने के लिए खुद लडऩे को मजबूर होना पड़ा। उन्होने कहा कि हाल ही में एक अन्य घटना में 65 साल की महिला ईंट भट्ठा मालिक को पायल में उसके घर के बाहर मार दिया गया। अमृतसर में लुटेरों ने एक मंदिर के पुजारी की हत्या कर दी और पैसे लेकर भाग निकले। वहीं, एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। उन्होने कहा कि डकैतियों और लूट के मामले प्रतिदिन बढ़ रहे हैं।

अकाली नेता ने  कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को असामाजिक तत्वों की गतिविधियों को रोकने के लिए तत्काल निर्देश जारी करने चाहिएं। सभी तरह की गैरकानूनी गतिविधियों को रोका जाना चाहिए। चाहे उन्हे कांग्रेस विधायकों का संरक्षण ही क्यों न प्राप्त हो। उन्होंने कहा कि राज्य में असामाजिक तत्वों की पहचान की जानी चाहिए और उन्हे सख्त सजा दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें: Exclusive Interview में बाेले अजय चौटाला- हरियाणा में भाजपा और हम मिलकर चलाते रहेंगे सरकार

 

यह भी पढ़ें: पंजाब स्‍काॅलरशिप घोटाले से निकला 16 साल पुराना 'भूत', उलझे पंजाब के सीएम व कांग्रस सांसद

 

यह भी पढ़ें: हरियाणा में भाजपा के साथ चलने की जजपा की रणनीति, अजय चौटाला ने दिए भविष्‍य के बड़े संकेत

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!