जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : पंजाब यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर प्रो. अरुण ग्रोवर की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही। पीयू के सोशोलॉजी विभाग की रिसर्च स्कॉलर ने उनके खिलाफ चांसलर व उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को शिकायत दी है। यौन शोषण की पीड़िता ने आरोप लगाया है कि ग्रोवर ने यौन शोषण मामले में आरोपित साहिर शर्मा का साथ दिया था। बताया कि 1 फरवरी 2017 को मामले को लेकर वीसी को शिकायत दी थी, लेकिन निष्पक्ष से जांच करवाने की बजाय उन्होंने आरोपित का ही साथ दिया। चांसलर कार्यालय की तरफ से शिकायत पीयू वीसी प्रो. राज कुमार को उचित एक्शन लेने के लिए संप्रेषित कर दी गई है। पीड़िता ने सेक्सुअल हैरासमेंट एक्ट एट वर्क प्लेस 2013 के सेक्शन 3(2) के तहत चांसलर को शिकायत भेजी है। यह शिकायत पूर्व वीसी का कार्यकाल खत्म होने से पहले 20 जुलाई 2018 को चांसलर कार्यालय भेजी गई थी। शिकायत का संज्ञान लेने की जानकारी शुक्रवार को पीड़िता को मिली है। पीड़िता ने यह भी लिखा है कि 26 मार्च 2017 को हुई सीनेट बैठक में मामले को लेकर बनी कमेटी की रिपोर्ट आने से पहले ही प्रो ग्रोवर ने कहा था कि उसका करियर खत्म है। कमेटी ने भी उनके दबाव में काम किया। इस पूरे मामले में आरोपित साहिर के साथ प्रो ग्रोवर भी काफी हद मेरी शोषण के लिए जिम्मेदार हैें। अगर तत्कालीन वीसी प्रो. अरुण ग्रोवर ने सही तरीके से मामले की जांच निष्पक्षता से करवाई होती तो मेरे साथ गलत नहीं होता। एक साल से ज्यादा हो गया है मुझे प्रताड़ना झेलते। प्रो. ग्रोवर के खिलाफ मामले में जांच हो ताकि सबके सामने उनका असलियत आए।

पीड़िता रिसर्च स्कॉलर।

By Jagran