जेएनएन, चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी से अलग होकर अपनी अलग पार्टी बनाने वाले सुखपाल सिंह खैहरा किसानों के मुद्दे पर केंद्र व पंजाब की कैप्टन सरकार पर जमकर बरसे। कहा कि देश के किसानों और खेत मजदूरों के हालात बुरे हैं। उनकी मेहनत का सही मूल्य नहीं मिल रहा है।

पूर्व नेता प्रतिपक्ष खैहरा ने कहा कि स्वामीनाथन की रिपोर्ट को लेकर न भाजपा गंभीर है और न पूर्व की कांग्रेस सरकार ही गंभीर थी। मोदी सरकार ने अंतरिम बजट में किसानों के साथ ठगी की। किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ, जबकि बड़े उद्योगपतियों का 8 लाख करोड़ का कर्ज माफ कर दिया गया। सरकार का कहना है कि इसके बदले देश के किसानों को 6000 रुपये सलाना देने का एलान हुआ है। लेकिन, किसानों को दी जाने वाली यह राशि ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। किसानों को तेलंगाना सरकार की तरह कैश सब्सिडी दी जानी चाहिए।

पंजाब में किसान कर्ज माफी पर खैहरा ने कहा कि पंजाब में कर्ज माफी पूरी नहीं हो रही, जबकि पूरे कर्ज माफी करने के एलान किया गया था। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार भी किसानों से भद्दा मजाक कर रही है। राज्य में अकाली दल के नेता मनतार सिंह बराड़ जैसे लोगों का कर्ज माफ हो रहा है, जबकि गरीब किसानों का कर्ज माफ नहीं हो रहा। उन्होंने कर्ज माफी योजना में गोलमाल का आरोप लगाया।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!