जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ और पंजाब के 6 महीने से 13 साल की उम्र के सात बच्चों का रेला अस्पताल चेन्नई में सफलतापूर्वक लिवर ट्रांसप्लांट किया गया। इन बच्चों में विल्सन डिसआर्डर, एक्यूट लीवर फेल्योर, ग्लाइकोजन स्टोरेज डिसआर्डर और बिलियरी एट्रेसिया फेलड़ कसाई जैसी जटिलताओं का निदान किया गया।

बच्चों के माता-पिता लिवर ट्रांसप्लांट के लिए डोनर

प्रोफेसर मोहमद रेला के नेतृत्व में वूमेन, चाइल्ड हेल्थ डायरेक्टर, सीनियर कंसल्टेंट पीडियाट्रिक गैस्ट्रोएंटरोलाजी और हेपेटोलाजी डा नरेश शनमुगम, पीडियाट्रिक हेपेटोलाजिस्ट और लीवर ट्रांसप्लांट फिजिशियन डा जगदीश मेनन की एक्स्पर्ट टीम ने बच्चों का सफल लिवर ट्रांसप्लांट किया। बच्चों के माता-पिता लिवर ट्रांसप्लांट के लिए डोनर थे।

बच्चों के जीवन के लिए लीवर ट्रांसप्लांट ही एकमात्र विकल्प

डा. जगदीश मेनन ने जानकारी देते हुए बताया कि बच्चों का शुरू में आउटरीच क्लीनिक सेंटर चैतन्य अस्पताल, चंडीगढ़ में इलाज किया गया था। फिर बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं के कारण लिवर ट्रांसप्लांट के लिए रेला अस्पताल रेफर कर दिया। डा. मेनन ने बताया कि बच्चों के जीवन के लिए लीवर ट्रांसप्लांट ही एकमात्र विकल्प था। जिन बच्चों का लीवर फेल हो जाए, उस केस में ट्रांसप्लांट ही एकमात्र विकल्प होता है ।

डा नीरज कुमार डायरेक्टर मदरहुड चैतन्य अस्पताल ने कहा यहां पीडियाट्रिक लिवर क्लीनिक महीने के हर दूसरे शुक्रवार को सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक संचालित होता है। कंसल्टेशन के लिए इन फोन नंबर पर संपर्क किया जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः- Independence Day 2022: पंजाब में स्‍वतंंत्रता दिवस पर समाराहों की धूम , सीएम भगवंत मान ने लु‍धियाना में फहराया तिरंगा

यह भी पढ़ें...जूनियर नेशनल गर्ल्स कबड्डी स्पर्धा के लिए ट्रायल 17 को

जासं, चंडीगढ़: पटना के पाटलीपुत्र स्टेडियम में आयोजित होने वाली 48वीं जूनियर नेशनल गर्ल्स कबड्डी चैंपियनशिप के लिए 17 अगस्त को सेक्टर-45 के चौधरी भोपाल सिंह स्टेडियम में खिलाड़ियों के ट्रायल लिए जाएंगे। यह प्रतियोगिता पहली से चार सितंबर को आयोजित होगी।

Edited By: Deepika