चंडीगढ़, [सुमेश ठाकुर]। स्कूल में स्टूडेंट्स को किताबी शिक्षा देने के साथ जरूरी है उन्हें पर्यावरण से जोड़ना। इसी सोच के साथ गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर-21 के स्कूल नॉन टीचिंग और टीचिंग स्टाफ ने मिलकर तैयार किया है स्पेशल गार्डन। जिसकी शुरुआत पॉलीहाउस से की गई है, जिसमें अनेक प्रकार की सब्जियों और हर्बल पौधों उगाए गए हैं। वहीं उसके साथ बाहर किचन गार्डन और हर्बल गार्डन का निर्माण किया गया है। किचन गार्डन में विभिन्न प्रकार की सब्जियां और हर्बल गार्डन में चर्म रोग से निजात दिलाने वाले पौधों को उगाया गया है। जिसका उद्देश्य स्टूडेंट्स को पर्यावरण से मिलने वाले हर्बल प्रकृति की जानकारी देने के साथ-साथ उसके बचाव के लिए जागरूक करना है।

गार्डन को कोरोना काल के दौरान तैयार किया गया है। स्कूल ईको क्लब इंचार्ज निर्मल सिंह ने बताया कि ऑनलाइन पढ़ाई के बाद जो भी समय बचता है, उस समय में गार्डन में काम किया जाता है। अब इस गार्डन में सब्जियां की अच्छी पैदावार हो रही है। जब तक स्कूल खुलेंगे और मिड डे मील पकेगा उस समय तक हमारे पास बच्चों के लिए ऑर्गेनिक सब्जियां पर्याप्त मात्रा में हो जाएंगी।

पॉलिहाउस के बाहर बनाया गया किचन गार्डन।

हरी सब्जियों के साथ किया कुटिया का निर्माण

स्कूल कैंपस में सब्जियों को उगाने के साथ कुटिया का भी निर्माण किया गया है जहां पर बैठकर कोई भी प्रकृति का नजारा ले सकते हैं। कुटिया में बैठने के अलग-अलग बेंच लगाए गए हैं जहां पर टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ से लेकर स्टूडेंट्स बैठ सकते हैं।

नेम प्लेट के साथ लगाए गए पौधे

स्कूल में बनाए गए गार्डन के साथ टीचर्स और स्टूडेंट्स ने पौधे लगाए हैं। इन पौधों उनके इन्हे लगाने वाले शख्स की नेम प्लेट भी लगाई गई हैं। नेम प्लेट लगाने का उद्देश्य यह है कि जिसने भी यह पौधा लगाया है वह उसकी देखभाल और रखरखाव भी करेगा और यह यादगार के तौर पर भी पहचान बनेगी। 

स्टूडेंट्स के भविष्य और प्रकृति बचाव का प्रयासः प्रिंसिपल

स्कूल प्रिंसिपल सुखपाल कौर ने बताया कि हमारा प्रयास स्टूडेंट्स को उज्ज्वल भविष्य देना है। इसके लिए हम आर्गेनिक सब्जियों उगा रहे हैं। इन सब्जियों को स्टूडेंट्स को मिड डे मील दिया जाएगा और उन्हें जानकारी भी मिलेगी कि कौन सी सब्जी का पौधा किस प्रकार का होता है। वहीं दूसरा दूसरा प्रयास प्रकृति को बचाना है। यदि हमारे प्रयास से प्रकृति बचाव में थोड़ा भी फर्क पड़ता है तो यह हमारे लिए गौरव का विषय है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप