जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ :

नगर निगम के पूर्व मेयर अरुण सूद को सर्वसम्मति से चंडीगढ़ भाजपा का नया अध्यक्ष बनाने की रणनीति बनाई गई है। पार्टी की रणनीति के मुताबिक चुनाव प्रक्रिया के बीच सूद के खिलाफ कोई भी उम्मीदवार नामांकन नहीं भरेगा। अरुण सूद ने नामांकन के चार सेट भरे हैं। वह वीरवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। शुक्रवार को पूरी होने वाली चुनाव प्रक्रिया को संपन्न करवाने के लिए राष्ट्रीय सचिव चंडीगढ़ आ रहे हैं।

चुनाव संपन्न करवाने के लिए 41 डेलीगेट्स तय किए गए हैं, जिनमें सांसद किरण खेर भी शामिल हैं। अरुण सूद इसलिए चार सेट भरना चाहते हैं, ताकि यह साबित किया जाए कि उनके विरोध में कोई दूसरा नेता न खड़ा हो। सूद ने जो चार सेट भरे हैं उनमे 37 डेलीगेट्स के हस्ताक्षर हो चुके हैं। सांसद किरण खेर ने भी सूद के एक नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं। सिर्फ फरमिला देवी, पूर्व मेयर देवेश मोदगिल और हीरा नेगी के हस्ताक्षर नहीं हुए हैं। पूरी उम्मीद है कि पार्टी की ओर से इन तीन पार्षदों से भी हस्ताक्षर करवा लिया जाएगा। नियमों के अनुसार अगर कोई डेलीगेट्स किसी दूसरे उम्मीदवार के नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर करेगा तो उसका नामांकन पत्र खारिज हो जाएगा।

अरुण सूद दूसरी बार पार्षद बनकर नगर निगम में आए हैं। माना जा रहा है कि वह भाजपा के चंडीगढ़ अध्यक्ष की बागडोर 17 जनवरी को संभाल लेंगे। वे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के भी करीबी हैं, लेकिन जैन गुट अरुण सूद के खिलाफ है। अरुण सूद भाजपा अध्यक्ष संजय टंडन के करीबी है। अरुण सूद को अध्यक्ष बनाने में टंडन गुट इसे भी अपनी जीत मान रहा है। दिलचस्प है कि इस समय सांसद किरण खेर का भी सूद को समर्थन हासिल है। नए अध्यक्ष की ताजपोशी के दौरान मौजूद रहेंगे मनोहर लाल

भाजपा के चंडीगढ़ अध्यक्ष की चुनाव प्रक्रिया 17 जनवरी को दिन में करीब 12 बजे तक पूरी हो जाएगी। नए अध्यक्ष की ताजपोशी के कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी शिरकत करेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!