कुलदीप शुक्ला, चंडीगढ़। स्मार्ट सिटी चंडीगढ़ में 200 किलोमीटर का साइकिल ट्रैक बने हुए हैं। इसके लिए यूटी प्रशासन की तरफ से करीब 22 करोड़ रुपये खर्च भी किए जा चुके हैं। आंकड़े के अनुसार वर्तमान में दो लाख से ज्यादा लोग साइकिल चलाने वाले भी हैं।

अब साइकिल के प्रति लोगों का बढ़ता क्रेज देख कर प्रशासनिक अधिकारी भी फटाफट नए-नए ट्रैक को अप्रूवल दे रहे हैं। लेकिन पहले से बने साइकिल ट्रैक पर खर्च करोड़ों रुपये उनकी खस्ता हालत देख कर फिजूलखर्ची नजर आ रहे है। शहर के लगभग 65 फीसद साइकिल ट्रैक पर लोगों की सुविधा और सुरक्षा दोनों में असर्थ है। 

ट्रैक का मतलब पोल, गड्ढे, तार और पेड़

शहर के वीआइपी सेक्टरों के ट्रैक ठीक हैं, लेकिन बाकी सेक्टरों में ट्रैक साइकिल चलाने लायक भी नहीं हैं। दूसरे एरिया में साइकिल ट्रैक का मतलब पोल, गड्ढे, तार, मिट्टी और पेड़ है। चंडीगढ़ में साइकिलिंग को बढ़ावा देने के लिए साइकिल शेयरिंग प्रोजेक्ट भी चलाया जा रहा है लेकिन साइकिल ट्रैकों की हालत खस्ता है। जिन साइकिल ट्रैक का प्रशासन ने निर्माण कराया भी है, उनकी दोबारा सुध नहीं ली गई है। जो साइकिल ट्रैक सही भी है, उन पर वाहनों को पार्क किया जा रहा है। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के अनुसार देश भर में आबादी के आधार पर सड़क हादसों में सबसे ज्यादा साइकिल सवार की मौत की मामले में चंडीगढ़ चौथा असुरक्षित शहर है। 

यहां ज्यादा खराब ट्रैक, सभी जगह असुरक्षित 

शहर के सेक्टर-30, 31, 32, 33, 39, 40, 42, 43, 45, 46, 52, 53 आदि के साइकिल ट्रैकों की हालत सबसे ज्यादा खराब है। इन साइकिल ट्रैकों से गुजरने में साइकिल सवार गुरेज करते हैं। इस वजह से वह मेन सड़क पर आ जाते हैं। 

शिकंजे का प्रपोजल, जल्द ही मंजूरी

सिटी ब्यूटीफुल में यातायात के नियमों के उल्लंघन पर ट्रैफिक पुलिस अब साइकिल चालकों का चालान काट सकती है। इसके लिए प्रशासन और ट्रैफिक पुलिस एक प्लान तैयार भेज चुकी है। अब सड़क हादसों और नियमों की अनदेखी के मद्देनजर इसी जल्द ही मंजूरी मिलने वाली है। इसमें सेक्टर-29 ट्रैफिक लाइन, सेक्टर-23 चिल्ड्रन ट्रैफिक पार्क सहित पुलिस के अधीन आने वाली जगह पर जब्त साइकिल स्टोर की जाएगी। नियमों के तहत अभी चालान की राशि 40 से 50 रुपयों से बीच तय की गई है। लेकिन इस प्रपोजल में चालान की राशि 200 से 300 रुपये करने का सुझाव दिया गया है। इसमें ट्रैक छोड़कर सड़क पर चलने, गलत टर्न लेने, चलती ट्रैफिक के बीच में घुसने, बिना रिफ्लेक्टर सहित अन्य नियम शामिल हैं।

Edited By: Ankesh Thakur

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट