जासं, चंडीगढ़ : कोरोना की लहर को देखते हुए प्रशासन ने शहर की पांच छोटी मार्केट को शाम पांच बजे बंद करने के आदेश दे रखे हैं। इन मार्केट के दुकानदार शुरू से ही प्रशासन के इस आदेश को भेदभाव पूर्ण बताते हुए विरोध कर रहे हैं। शनिवार को शाम पांच बजे इन पांचों मार्केट के व्यापारियों ने सेक्टर-19 पालिका मार्केट के बाहर एकत्र होकर विरोध किया। पुलिस कर्मी जैसे ही मार्केट को बंद कराने पहुंचे सभी व्यापारी विरोध में सड़क पर आ गए। उन्होंने मार्केट के सामने खड़े होकर विरोध में नारेबाजी की। सभी छोटी मार्केट के प्रतिनिधियों ने विरोध प्रदर्शन कर प्रशासन से मांग की कि छोटे दुकानदारों को भी शहर की बाकी मार्केट की तरह दुकानें खोलने के समय में एक समानता बरती जानी चाहिए।

उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष कैलाश चंद जैन व सचिव नरेश जैन के नेतृत्व में यह विरोध प्रदर्शन हुआ। सेक्टर-15 पटेल मार्केट के अध्यक्ष संजीव कुमार, सेक्टर-19 सदर बाजार के प्रधान नरेंद्र सिंह रिकू, विजयपाल चौधरी, सेक्टर-19 पालिका बाजार के प्रधान नरेश जैन, सेक्टर-41 कृष्णा मार्केट के प्रधान काका सिंह, महामंत्री मेहर चंद के अलावा बड़ी संख्या में दुकानदारों ने हिस्सा लिया।उद्योग व्यापार मंडल के प्रधान कैलाश चंद जैन ने कहा कि प्रशासन की इन छोटे दुकानदारों के साथ सरासर नाइंसाफी है। यह कैसा निर्णय है जिसमें कुछ दुकान रात नौ बजे तक खुल रही हैं और छोटे दुकानदारों को शाम पांच बजे ही बंद करनी पड़ रही हैं।उन्होंने मांग की कि प्रशासन दुकाने बंद करने के समय में किसी प्रकार का भेदभाव न करे। दुकानों को शाम सात बजे तक खोलने की छूट देने की मांग

कैलाश जैन ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए अगर मार्केटों में बंद करवाने का समय निश्चित करना है तो शहर की सभी मार्केट को बंद करने का समय सात बजे तक बंद करने का समय निश्चित किया जाए किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। छोटी मार्केट के दुकानदार तो पहले मुश्किल से गुजर बसर करते हैं। इस तरह से छोटे बड़े में भेद ठीक नहीं है। पूरे शहर में दुकान खोलने की टाइमिग शाम सात बजे तक निश्चित करनी चाहिए। शाम को ही कस्टमर आने का समय होता है।

Edited By: Jagran