जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : आखिरकार सेक्टर-10 के स्केटिंग ¨रक में वीरवार शाम हंगामे के बाद एजुकेशन डिपार्टमेंट ने इंटर स्कूल स्केटिंग प्रतियोगिता को स्थगित कर दिया। नई डेट एजुकेशन डिपार्टमेंट बाद में जारी करेगा। इस प्रतियोगिता का आयोजन शुक्रवार से सेक्टर-10 के स्केटिंग ¨रक में किया जाना था। डिपार्टमेंट के इस कदम का नेशनल लेवल के स्केटर्स द्वारा विरोध किया जा रहा था। क्योंकि नेशनल स्कूल गेम्स में स्पीड स्केटिंग 200 मीटर के ट्रैक पर होती है, जबकि सेक्टर-10 का स्केटिंग ¨रक सिर्फ 50 मीटर का है। वीरवार को एजुकेशन डिपार्टमेंट ने सभी स्कूलों को एक नोटिस जारी कर इंटर स्कूल प्रतियोगिता में भाग लेने वाले स्केटर्स और टीचर्स को सेक्टर-10 के स्केटिंग ¨रक में बुलाया था। प्रशासन ने ज्वाइंट डायरेक्टर स्पो‌र्ट्स डॉ. मो¨हद्र सिंह को स्केटर्स का पक्ष जानने के लिए भेजा था। नेशनल चैंपियनशिप में चंडीगढ़ के लिए कई मेडल जीतने वाले स्केटर्स का कहना था कि सेक्टर-10 के ¨रक में चोट लगने का डर बना रहता है। नेशनल चैंपियनशिप यदि 200 मीटर के ट्रैक पर होती है, तो फिर इंटर स्कूल कैसे 50 मीटर के ट्रैक पर हो सकता है। दूसरी और कुछ पेरेंट्स का यह तर्क है कि उनके बच्चे सेक्टर-10 में प्रेक्टिस करते हैं, इसलिए यहीं प्रतियोगिता होनी चाहिए। वहीं, ज्वाइंट डायरेक्टर स्पो‌र्ट्स ने माहौल को देखते हुए इंटर स्कूल प्रतियोगिता को स्थगित करने का निर्णय लिया। स्टेट चैंपियनशिप केबीडीएवी में

चंडीगढ़ स्टेट स्केटिंग चैंपियनशिप का आयोजन हमेशा केबीडीएवी स्कूल सेक्टर-7 में किया जाता है। इस स्कूल का ट्रैक 120 मीटर का है। नेशनल लेवल की कई चैंपियनशिप भी इस स्कूल के ¨रक पर हो चुकी हैं। ऐसे में एजुकेशन डिपार्टमेंट के पास यह एक बेहतर ऑप्शन है। गत वर्ष प्रशासन ने नेशनल स्कूल गेम्स से पहले कैंप भी केबीडीएवी सेक्टर-7 में लगाया था। प्राइवेट अकादमी का तर्क सही नहीं

सेक्टर-10 के स्केटिंग ¨रक में इंटर स्कूल चैंपियनशिप को लेकर जमकर हंगामा हुआ। हंगामा बढ़ते देख पुलिस ने आकर मामला शांत कराया। कुछ पेरेंट्स केबीडीएवी में कंपटीशन न कराने का यह तर्क दे रहे थे कि वहां प्राइवेट अकादमी है, जबकि इंटर स्कूल के कई कंपटीशन प्राइवेट स्कूल्स में आयोजित किए जा रहे हैं। इंटर स्कूल के लिए स्टूडेंट्स से कोई चार्ज भी नहीं लिया जाता। स्विमिंग के इंटर स्कूल कंपटीशन भी गवर्नमेंट पूल छोड़कर डीपीएस सेक्टर-40 में किए जा रहे हैं। रूल 200 मीटर ट्रैक का ही

वीरवार को स्पो‌र्ट्स डिपार्टमेंट ने सेक्टर-10 के ¨रक की पैमाइश भी करवाई। इस पैमाइश में भी ¨रक नियमों के अनुसार स्पीड स्केटिंग के कंपटीशन 200 मीटर के ट्रैक पर ही आयोजित किए जाते हैं। रोलर स्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट तुलसी अग्रवाल के अनुसार 50 से 60 मीटर के ट्रैक पर स्पीड स्केटिंग कराना टेक्निकल सही नहीं है। नेशनल स्कूल गेम्स में स्केटिंग के ऑब्जर्वर कन्हैया लाल के अनुसार नेशनल चैंपियनशिप हमेशा 200 मीटर के ट्रैक पर ही होती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!