जेएनएन, चंडीगढ़। सिख मोटरसाइकिल एसोसिएशन के छह सदस्यों ने कनाडा से इंडिया तक रोड ट्रिप बाइक पर पूरा किया। उनके इस ट्रिप का मकसद गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश उत्सव को मनाना और खालसा एड के लिए फंड इकट्ठा करना था।इन छह लोगों ने कुल 40 दिनों में 22 देशों की यात्रा की। अपनी यात्रा पूरी करके वीरवार को एसोसिएशन के सदस्य प्रेस क्लब-27 पहुंचे।

खालसा एड के लिए जुटाए 25 लाख रुपये

ग्रुप के सदस्य पर्वजीत सिंह टक्खर ने कहा इस रैली का आयोजन करने से पहले, हमारे लिए कई समस्याएं थी। मसलन, हर किसी को करीब डेढ़ महीने के लिए छुट्टी चाहिए थी। किसी को मिली तो किसी को नहीं मिली। ऐसे में हम 10 लोग पहले इस ट्रिप का हिस्सा था, जो बाद में घटकर छह रह गए। मगर फिर भी हमने अपना ट्रिप जारी रखा। हमने रास्ते में हर मिलने वाले से खालसा एड का जिक्र किया, उनका काम दिखाया और उन्हें ऑनलाइन पैसे डोनेट करने को कहा। पूरे ट्रिप में हमने कुल 25 लाख रुपये इकट्ठा किया। ये सारा पैसा सीधा खालसा एड के फंड में गया।

इन देशों में की राइड

ग्रुप के सदस्य जतिंदर सिंह चौहान ने कहा कि हमारे लिए इस ट्रिप में सबसे बड़ी मुसीबत मौसम रहा। जिसमें हमने सर्दी और गर्मी दोनों का ही सामना करना पड़ा। हमारे हाथ जल गए, कई बार ठिठुरे भी। मगर फिर भी हमने इस ट्रिप को जारी रखा। हमने कनाडा से शुरू होते हुए अमेरिका तक पहुंचे। फिर इंग्लैंड, नीदरलैंड, हॉलैंड, जर्मनी, स्पेन, ब्राजील, बेल्जियम, स्विट्जरलैंड, लैंचिस्तान, सुलवेनिया, सर्बिया, इटली, हंगरी, बुल्गारिया, रोमानिया, ग्रीस, तुर्की, ईरान, पाकिस्तान और फिर भारत तक पहुंचे।

कनाडा एयरलाइंस ने दिया 25 प्रतिशत का डिस्काउंट

पर्वजीत ने कहा कि इस ट्रिप के दौरान उन्हें कई मजेदार अनुभव हुए। हमने कनाडा से यात्र शुरू कर अमेरिका तक पूरी की। मगर फिर हमें इंग्लैंड जाने के लिए हवाई यात्र करनी थी। जिसके लिए हमें खास तौर पर कनाडा एयरलाइंस ने 25 प्रतिशत का डिस्काउंट दिया। ये हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण रहा, क्योंकि दूसरे देशों ने भी हमारी मदद की। ये पूरा ट्रिप सेल्फ फंडेड था। हमने किसी दूसरे की इसमें मदद नहीं ली। जहाज में एक अंग्रेज को हमने अपने ट्रिप के मकसद पर बताया, तो तुरंत उन्होंने 100 डॉलर हमें पकड़ा दिए।

पाकिस्तान ने दिल से अपनाया

ग्रुप के सदस्य आजाद सिंह सिद्धू ने कहा कि हमारे लिए सबसे खास था पाकिस्तान का ट्रिप। हमने वहां कई दिन बिताए। जहां भी जाते तो वहां लोगों से खूब प्यार मिला। यहां तक कि किसी ने भी हमसे पैसे लेने से मना कर दिया। मुङो लगता है कि खबरों में उस देश की एक अलग स्थिति बयान की जाती है। वहां लोगों ने खूब प्यार दिया। यहां तक कि हम अपने पुरखों के गांव भी गए। जहां से आते आते ये हमारे लिए बहुत ही भावनात्मक हो गया। इसके बाद ननकाना साहिब, पंजा साहिब और अन्य तीर्थ स्थानों में भी जाना हुआ। करतारपुर में हमें खास ट्रीटमेंट मिला। हमें खुशी हुई कि दोनों देशों के बीच ऐसी कोशिश भी हो रही है। वाघा बॉर्डर तक पहुंचना हमारे लिए बहुत ही भावनात्मक रहा। जहां के बाद हम पावन धरती अमृतसर में पहुंचे।

ट्रिप के लिए कंपनी ने नौकरी से निकाला फिर वापस रख लिया

ग्रुप के सदस्य मनदीप सिंह ने कहा कि वह इंजीनियर हैं और कैनेडा की ही एक कंपनी में काम करते हैं। इस ट्रिप के लिए मैंने काफी पहले से प्लानिंग कर ली थी। मगर कंपनी वालों ने मना कर दिया। मुङो बहुत बुरा लगा तो मैंने नौकरी ही छोड़ दी। मगर कुछ दिनों बाद जब मेरे बारे में अखबारों में छपने लगा तो मेरी कंपनी ने मुङो फिर से नौकरी पर रख लिया। अब वापस जाकर दोबारा नौकरी कर सकता हूं। ग्रुप में मेरे अलावा ज्यादातर लोग खुद का बिजनेस करते हैं और कुछ ड्राइच्वग से जुड़े हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sat Paul

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!