चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब भाजपा के अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य श्‍वेत मलिक ने मुख्यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह पर कड़ा हमला किया है। उन्‍होंने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सरकार राज्य में बाढ़ की स्थिति से निपटने में पूरी तरह विफल रही। लोग बाढ़ से बर्बाद हो गए और सरकार आपदा प्रबंधन में फेल हो गई। सरकार लोगों को राहत नहीं दे पाई और पहले से स्थिति से निपटने की कोई व्‍यवस्‍था नहीं की गई।

श्‍वेत मलिक ने कहा कि प्रदेश में हर वर्ष मानसून आने से पहले आपदा-प्रबंधन को लेकर व्यापक स्तर पर योजनाएं बना कर विभागों की जिम्मेदारी तय की जाती है। कैप्टन अमरिंदर ने ऐसा कुछ नहीं किया। इसका खमियाजा जनता को आर्थिक व जानी नुकसान के रूप में चुकाना पड़ा। इसकी जिम्‍मेदार लेते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्‍यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।


यह भी पढ़ें: अमेरिका की गोरी मैम हुई 'अंबरसरी मुंडे' की दीवानी, मैकेनिक के प्‍यार की डोर में

मलिक ने कहा कि बाढ़ से पहले अगर बचाव के उपाय किए होते तो जनता को नुकसान से बचाया जा सकता था। अब बाढ़ प्रभावितों के लिए सहायता के लिए 100 करोड़ की मामूली राशि जारी की है, जो बहुत कम है। कैप्टन सरकार ने रेत-बजरी के प्रबंधन व ठेकों में घोटाले किए हैं।

यह भी पढ़ें: जंजीरों में बंधी युवती ने किए सनसनीखेज खुलासे, बोली-बड़े घर की लड़की ने धकेला दलदल में

उन्‍होंने कहा कि इसके गवाह कैप्‍टन अमरिंदर सरकार के मंत्री भी हैं। ये मंत्री लगातार इसे मुद्दा बना कर अपनी ही सरकार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। मलिक ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से दिए गए 6200 करोड़ रुपये सरकार खर्च कर सकती है, लेकिन कैप्टन सरकार ऐसा नहीं कर रही। सरकार जनता के बीच अपनी विश्वसनीयता खो चुकी है।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!