जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ के होटलों और रेस्टोरेंट पर कस्टमर्स से खाने के बिल पर सर्विस चार्ज वसूला जा रहा है। अगर आपके साथ भी ऐसा हुआ है तो इसकी लोग शिकायत दे सकते हैं। क्योंकि गवर्नमेंट आफ इंडिया के आदेशों पर यूटी प्रशासन ने वर्ष 2016 से शहर में सर्विस चार्ज लेने पर प्रतिबंध लगा रखा है। बावजूद इसके कई रेस्टोरेंट और होटल बिल में सर्विस चार्ज या कोई अन्य चार्ज वसूल कर रहे हैं। जबकि यह नियमों के खिलाफ है और पूरी तरह से गैर कानूनी है।

इसके खिलाफ डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर प्रोक्टेक्शन काउंसिल के पूर्व मेंबर एडवोकेट अजय जग्गा ने कंज्यूमर अफेयर्स सेक्रेटरी वीपी कावले को चिट्ठी लिखकर शिकायत दी है। उन्होंने मांग की है कि सर्विस चार्ज वसूलने वाले होटल, रेस्टोरेंट्स पर कार्रवाई की जाए। 

अजय जग्गा ने चिट्ठी में सर्विस चार्ज बैन करने के बाद अब फिर केंद्र सरकार ने इसे अवैध बताया है। साथ ही कहा है कि कोई भी रेस्टोरेंट होटल बिल में कोई अलग से चार्ज वसूल नहीं कर सकता। इतना ही नहीं रेस्टोरेंट और होटल संचालकों को अपने यहां डिसप्ले भी करना होता है कि वह किसी तरह का अतिरिक्त चार्ज नहीं वसूलते। बिल में कोई चार्ज वसूला नहीं जाता। कोई ऐसा करता है तो वह अपराध है। इसकी शिकायत कंज्यूमर अफेयर्स डिपार्टमेंट से की जा सकती है।

इतना ही नहीं बिल में स्पष्ट तौर पर जो सामान या फूड आइटम खरीदी है उसकी कीमत के साथ जीएसटी लिखा होना चाहिए, जिससे स्पष्ट हो सके कि किस चीज के कितने पैसे लिए जा रहे हैं। लोगों को जागरूक करने के लिए एक अभियान चलाया जाना चाहिए। साथ ही रैंडम तौर पर शहर के होटलों और रेस्टोरेंट में चेकिंग भी की जानी चाहिए। इससे लोगों को पता चले कि उनसे अवैध वसूली तो नहीं हो रही है। 2016 से पहले बिल में सर्विस चार्ज खुलेआम वसूल किया जाता रहा है। अब कहीं कहीं चोरी छिपे यह खेल चल रहा है।

Edited By: Ankesh Thakur