चंडीगढ़, जेएनएन। नगर निगम ने अब शहर के बाजारों में भी सूखे और गीले कचरे का सेग्रीगेशन सिस्टम शुरू करने की योजना बना ली है। अभी तक बाजारों से कचरा लेने के लिए न तो कलेक्टर और न ही एमसी के कर्मचारी आते थे। सोमवार को सेक्टर-17 प्लाजा से इस सिस्टम को शुरू कर दिया है। मेयर राजेश कालिया ने यहां पर सेग्रीगेशन सिस्टम को फ्लैग ऑफ किया है। इसके लिए चार गाड़ियां लगाई गई हैं। जबकि नगर निगम ने पूरे शहर के बाजारों के लिए 44 गाड़ियां खरीदी हैं। सेक्टर-17 में लांचिंग कार्यक्रम में सेनीटेशन कमेटी के चेयरमैन शक्तिप्रकाश देवशाली, वार्ड पार्षद रवि शर्मा और व्यापार मंडल के महासचिव संजीव चड्ढा ने भी भाग लिया है।

अभी तक शहर के बाजारों में कचरा

यहां के व्यापारी अपने लेवल पर ही दुकानों से डस्टबिन और सहज सफाई केंद्रों में भिजवा रहे थे। यहां पर कोई भी डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्टर तैनात नहीं था। लेकिन अब पूरे शहर के बाजारों में नगर निगम खुद ही कचरा इकट्ठा करेगा। सेक्टर-17 के लिए चार गाड़ियां लगाई गई हैं जबकि अब सेक्टर-9 सहित अन्य बाजारों में सेग्रीगेशन सिस्टम लांच किया जाएगा। मालूम हो कि नगर निगम ने सभी गांवों में सेग्रीगेशन सिस्टम शुरू कर दिया है। यहां पर नगर निगम ने 55 गाड़ियां हैं। जबकि शहर के रिहायशी इलाके में सेग्रीगेशन सिस्टम डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्टरों पर ही निर्भर है। लेकिन सिर्फ 20 प्रतिशत कचरा ही सेग्रीगेट होकर रिहायशी इलाकों से आ रहा है। बाजारों में होटल, पब, रेस्तरां, दुकानें, शोरूम के अलावा डॉक्टरों के क्लीनिक भी हैं।

निगम ने बाजारों से दुकानों और शोरूमों से सेग्रीगेशन शुल्क का रेट तय कर लिया है। लेकिन नगर निगम का कहना है कि अभी दुकानदारों से यह रेट चार्ज नहीं किए जाएंगे। पहले व्यापारियों में सूखा और गीला कचरा अलग-अलग करने की आदत डाली जाएगी। ऐसे में अगले दो से तीन माह तक शुल्क चार्ज नहीं किया जाएगा।

 

यह शुल्क किया जाएगा चार्ज

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Vikas Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!