जेएनएन, चंडीगढ़। Bharat Bandh: किसानों के भारत बंद का असर पंजाब में दिख रहा है। हालांकि इसके कारण लोग परेशान हैं। लोगों को आवाजाही में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बसों की आवाजाही बंद है। किसान रेलवे ट्रेकों पर भी धरने पर बैठे हैं। इससे ट्रेनें भी नहीं चल रही। रेलवे स्टेशनों पर यात्री परेशान हैं। वहीं, रेलवे ने कई ट्रेनों को रद कर दिया है। 

फिरोजपुर स्थित गुरुहरसहाय में रेलवे ट्रेक पर प्रदर्शन करते किसान। जागरण

किसानों के प्रदर्शन के कारण कई मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों को स्थगित कर दिया। कई ट्रेनों को रद भी किया गया है। जिन ट्रेनों को रद किया गया उसमें अमृतसर-हरिद्वार ट्रेन, अमृतसर-पठानकोट, अमृतसर से नंगल डैम, अमृतसर से नई दिल्ली, पठानकोट से अमृतसर, मोगा से नई दिल्ली, पठानकोट से दिल्ली जाने वाली ट्रेनों को रद करना पड़ा है। आठ ट्रेनों को 12 से 13 घंटे में दोबारा रिशिड्यूल किया गया है। 

किसानों के भारत बंद के कारण बठिंडा-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे कुछ इस तरह से दिखा। सड़कें सूनी रही। जगह-जगह किसानों ने धरनास्थल बना दिए। किसी को भी आने जाने नहीं दिया गया। हालांकि किसान संगठनों को कहा था कि आपात स्थिति में जाने वालों को नहीं रोका जाएगा, लेकिन कई जगह इसका पालन नहीं किया गया। इस रोड पर हमेशा वाहनों का आना जाना लगा रहता है। इस रोड से एक दिन में एवरेज 10 हजार वाहन निकलते हैं।

भारत बंद के दौरान अमृतसर में बंद पड़ी दुकानें। अमृतसर में सुबह से ही किसान सड़कों पर उतर आए और सड़कों पर बड़े-बड़े अवरोधक लगा दिए। इसके कारण लोग आवाजाही नहीं कर पाए। कुछ जगह दुकानदारों ने दुकान खोलने का प्रयास किया तो किसानों ने इसे बंद करवा दिया। हालांकि इस दौरान किसी तरह का टकराव नहीं हुआ।

रोपड़ के नंगल में भारत बंद के समर्थन में बंद पड़ी मेन मार्केट। यहां भी किसान सुबह से ही सड़कों पर डटे रहे।

भारत बंद के दौरान आवाजाही करने वालों से पूछताछ करता किसान आंदोलन समर्थक युवक। 

बठिंडा के नथाना में धरने पर बैठी महिलाएं। इस दौरान उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। 

अमृतसर के देवीदास पुरा रेलवे ट्रैक पर अर्धनग्न होकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए किसान। 

मोहाली में भारत बंद के दौरान बंद पड़ा बाजार। 

 

Edited By: Kamlesh Bhatt