आनलाइन डेस्क, चंडीगढ़। पंजाब के राजस्व मंत्री ब्रम शंकर जिम्पा ने कहा है कि पंजाब सरकार के खजाने में भूमि-संपत्ति रजिस्ट्रियों से पिछले साल की तुलना में अगस्त महीने में 21.87 प्रतिशत अधिक पैसा आया है। उन्होंने कहा कि पंजाब के लोगों को पारदर्शी और भ्रष्टाचार मुक्त सेवाएं मुहैया कराना मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार का मुख्य लक्ष्य है। इससे राज्य की आय लगातार बढ़ रही है।

राजस्व मंत्री ने कहा कि 1 अगस्त से 31 अगस्त 2022 तक स्टाम्प एवं पंजीकरण के तहत 281 करोड़ 18 लाख 60 हजार 67 रुपये की आय राजकोष में आई है। उन्होंने कहा कि यह आय पिछले साल के अगस्त महीने के मुकाबले 21.87 फीसदी ज्यादा है। साल 2021 में यह आमदनी 230 करोड़ 70 लाख 97 हजार 158 रुपये थी।

जिंपा ने कहा कि इस साल पंजाब भूमि रजिस्ट्रियों और स्टांप पेपरों की बिक्री से राजस्व में और वृद्धि दर्ज करेगा, क्योंकि मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अनधिकृत कालोनियों की एनओसी जारी की है। धारकों को अपने भूखंडों/संपत्तियों को पंजीकृत कराने की अनुमति दी गई है।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों की संपत्तियां 19 मार्च 2018 से पहले विकसित अनाधिकृत कालोनियों में आती हैं, वे एनओसी के लिए आनलाइन आवेदन कर सकते हैं। उसके बाद उन्हें पंजीकरण प्राप्त करने में किसी भी कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा।

इस संबंध में जीआइएमपीए की ओर से राजस्व विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों को निर्देश जारी किए गए हैं, ताकि लोगों को कोई परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा जारी निर्देशों को ध्यान में रखते हुए राजस्व विभाग में सभी कार्य नियमानुसार एवं व्यवस्थित तरीके से किए जा रहे हैं।

6 महीने से लोगों को सुचारू और अच्छी सेवाएं मिल रही

राजस्व मंत्री ने कहा कि पूर्व में राजस्व विभाग के कामकाज के तरीकों से आम लोग काफी नाखुश थे, लेकिन पिछले 6 महीने से लोगों को सुचारू और अच्छी सेवाएं मिल रही हैं। उन्होंने अपील की कि जनता राज्य के खजाने को मजबूत करने के लिए सरकार का सहयोग करे और किसी भी अधिकारी/कर्मचारी को किसी भी काम के लिए रिश्वत न दी जाए। राजस्व विभाग का कोई अधिकारी/कर्मचारी किसी काम के बदले में पैसे मांगे तो, फिर बेझिझक। इसके बारे में शिकायत करें। आरोपित को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट