चंडीगढ़, [कैलाश नाथ]। Punjab Assembly Byelection 2018 में होशियारपुर की मुकेरियां और कपूरथला की फगवाड़ा विधानसभा सीटों के परिणाम तय करेंगे कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्‍वेत मलिक का राजनीतिक भविष्य क्या होगा। पंजाब में कुल चार सीटों पर उपचुनाव होंगे, जिनमें से फगवाड़ा और मुकेरियां सीट भाजपा कोटे की हैं। दो अन्य सीटों दाखा और जलालाबाद में शिअद चुनाव लड़ रही है।

विधानसभा उपचुनाव में भाजपा कोटे वाली दो सीटों पर रहेगी खास नजर

इसी माह से भारतीय जनता पार्टी में संगठनात्मक चुनाव भी शुरू हो जाएंगे, जबकि प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव दिसंबर में होना है। यह तय माना जा रहा है कि उपचुनाव में भाजपा कोटे वाली दो विधानसभा सीटों के परिणाम का असर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव पर भी पड़ेगा।

लोकसभा चुनाव में इन दोनों विधानसभा सीटों पर भाजपा को मिली थी लीड

भाजपा के लिए यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि लोकसभा चुनाव में भाजपा को इन दोनों सीटों पर भारी लीड मिली थी। भाजपा को मुकेरियां में कांग्र्रेस के मुकाबले 33,705 और फगवाड़ा में 5,146 अधिक वोट पड़े थे। भाजपा प्रत्याशी सोम प्रकाश को मुकेरियां में 74,913 तो फगवाड़ा में 44,436 वोट मिले थे। वहीं, कांग्र्रेस के प्रत्याशी डॉ. राजकुमार चब्बेवाल को मुकेरियां में 37,207 तो फगवाड़ा में 39,290 वोट मिले थे। 

यह भी पढ़ें: पादरी पर सनसनीखेज आरोप, होटल के कमरे में आठ साल की बच्ची से किया दुष्कर्म

मलिक की क्षमता पर उठे थे सवाल

श्‍वेत मलिक की राजनीतिक क्षमताओं पर लोकसभा चुनाव के दौरान भी सवाल उठे थे। पूरे देश में भाजपा की लहर थी, लेकिन अमृतसर के प्रत्याशी हरदीप पुरी को हार का सामना करना पड़ा था। भाजपा भले ही अपने कोटे की तीन में से दो सीटों पर जीती थी, लेकिन श्‍वेत मलिक के गृह क्षेत्र अमृतसर में हरदीप पुरी की हार से मलिक पर अंगुलियां उठने लगी थीं।

यह भी पढ़ें: सनसनीखेज खुलासा, आतंकियों की सुखबीर बादल को बम धमाके में उड़ाने की थी साजिश

मलिक ने हर मंच पर अपना बचाव किया और कहा कि चुनाव में भाजपा का जीत प्रतिशत 67 रहा। इसके बावजूद श्वेत मलिक के विरोधियों ने उन्हें घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भाजपा के कद्दावर नेता व पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली के निधन से भी श्‍वेत मलिक को खासा झटका लगा। मलिक को जेटली का करीबी माना जाता था। अब साफ है कि फगवाड़ा और मुकेरियां के अच्छे नतीजों का श्‍वेत मलिक को लाभ मिलेगा। वहीं, अगर भाजपा अपना लोकसभा का प्रदर्शन नहीं दोहरा पाई, तो इसका ठीकरा भी उनके सिर पर ही फोड़ा जाएगा।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!