चंडीगढ़, [मनोज त्रिपाठी]। विधानसभा में सोमवार को बहिबलकलां पुलिस फायरिंग कांड की जांच को लेकर गठित रिटायर जस्टिस रणजीत सिंह आयोग की रिपोर्ट पेश की जाएगी। विपक्ष की मांग को लेकर सरकार ने आयोग की रिपोर्ट पेश करने का फैसला किया था। इस पर बहस मंगलवार को होगी , लेकिन कठघरे में खड़ा अकाली दल कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के निशाने पर रहेगा। रिपोर्ट पर कार्रवाई की मांग को लेकर आम आदमी पार्टी व अकाली दल भी कांग्रेस पर पलटवार की तैयारी में हैैं। सरकार भी घिर सकती है। कुल मिलाकर इस मुद्दे पर विधानसभा में जमकर हंगामा होने की संभावना है।

कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के निशाने पर अकाली दल, आयोग की रिपोर्ट पर कार्रवाई पर घिर सकती है सरकार

बरगाड़ी (फरीदकोट) में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के विरोध में  बहिबलकलां में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस फायरिंग में दो युवकों की मौत हो गई थी। विस चुनाव में भी यह मुद्दा बना था। कांग्रेस ने वायदा किया था कि सत्ता में आने पर बेअदबी की घटनाओं की जांच करवा दोषियों के खिलाफ कारवाई की जाएगी। बाद में कांग्रेस ने रणजीत सिंह आयोग का गठन किया था।

आयोग ने रिपोर्ट में पुलिस फायरिंग वाली रात को लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री आवास से पुलिस अधिकारियों को आए फोन के बारे में विस्तार से लिखा है। साथ ही तत्कालीन डिप्टी सीएम व गृह मंत्री सुखबीर सिंह बादल की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं। इस खुलासे के बाद से ही अकाली दल कठघरे में है।

यह भी पढ़ें: पंजाब का रवैया नहीं बदला तो हरियाणा ने निकाला रास्‍ता, ऐेसे लाएगा SYL का पानी

अकाली दल ने विधानसभा में ज्यादा हंगामा करने की कोशिश की तो जवाब के लिए कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू व सुखजिंदर सिंह रंधावा तथा ब्रह्म मोहिंदरा सहित तीन विधायकों की ड्यूटी पहले ही कांग्रेस ने लगा दी है। अकाली दल ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

आप की बगावत का लाभ मिलेगा कांग्रेस व अकालियों को

बगावत से जूझ रही आम आदमी पार्टी की फूट का लाभ कांग्रेस व अकालियों को मिलना तय माना जा रहा है। आप के फायरब्रांड नेता सुखपाल खैहरा को नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाकर हरपाल सिंह चीमा को नेता प्रतिपक्ष बना दिया गया था। उसके बाद से ही आप खैहरा व चीमा गुट में बंट गई है।

चीमा पहली बार सदन में नेता प्रतिपक्ष के रूप में दिखाई देंगे इसलिए उनके लिए भी यह चुनौती है कि वह किस प्रकार सभी को एकजुट करके आप के मुद्दे पर सरकार व अकालियों को घेर पाते हैं। खैहरा ने पहले ही ऐलान कर दिया है कि वह चीमा को नेता प्रतिपक्ष नहीं मानते हैं अरविंद केजरीवाल ने उन्हें असंवैधानिक तरीके से इस पद पर बैठाया है।

यह भी पढ़ें: राम रहीम संग जाेड़ा जा रहा अक्षय कुमार का नाम, खिलाड़ी कुमार ने कही ऐसी बात

------

बहस से पहले ही हंगामा करके वाक आउट कर सकता है अकाली दल

रणजीत सिंह आयोग की रिपोर्ट पर बहस को लेकर कांग्रेस व अकाली दल तथा आप फ्लोर टेस्ट में अपनी दमदार मौजूदगी का एहसास करवाने की कोशिश करेंगे। अकाली दल के सूत्रों की मानें तो मामले में बुरी तरह से फंसा अकाली दल सोमवार को ही किसी न किसी मुद्दे पर जोरदार बहस की आड़ में रिपोर्ट पर होने वाली बहस से बचाव करने की कोशिश करेगा। अगर तीर निशाने पर लग गया तो ठीक नहीं तो वाकआउट करके अपना बचाव करेगा।

------

सिद्धू के पाक दौरे को नापाक बताकर अकाली दल घेरेगा सरकार को

कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के हाल में पाकिस्तान दौरे के दौरान पाक सेना प्रमुख से गले मिलने के मुद्दे को लेकर अकाली दल सरकार को घेरेगा। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी रणजीत सिंह आयोग की रिपोर्ट पर बहस के लिए सिद्धू की तैनाती कर दी है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!