जेएनएन,चंडीगढ़। शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि तकनीकी शिक्षा मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी प्रकरण में राहुल गांधी को बताना चाहिए कि वह महिलाओं के मामले में दोहरे मापदंड क्यों अपना रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को एक महीना पहले ही मंत्री द्वारा महिला आइएएस अधिकारी को गलत मैसेज भेजने के बारे में बताया जा चुका था, राहुल को बताना चाहिए कि उन्होंने इस मुद्दे पर चुप्पी क्यों साध रखी है।

कहा- राहुल गांधी को एक माह पहले ही मामले की जानकारी दी गई थी, फिर भी वे मौन हैैं

सुखबीर ने चन्नी की करतूतों पर पर्दा डालने के लिए कांग्रेस के पंजाब मामलों की महासचिव आशा कुमारी की जिम्मेवारी लगाने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सख्त निंदा की है। उन्होंने कहा कि अपनी गलती को स्वीकार कर चुके चन्नी के खिलाफ कोई शिकायत न मिलने का दावा करके कांग्रेसी लीडरशिप द्वारा मंत्री के विरुद्ध यौन उत्पीड़न के मामले को दबाने की कोशिश की जा रही है।

सुखबीर ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही खुलासा कर चुके हैं कि महिला आइएएस अधिकारी द्वारा उन्हे मंत्री के खिलाफ दी गई शिकायत के बाद चन्नी ने उस महिला से माफी मांगी थी। जब मुख्यमंत्री ऐसा कह चुके हैैं तो आशा कुमारी मंत्री को क्लीनचिट कैसे दे रही हैं? ऐसा करते हुए कांग्रेस की पंजाब प्रभारी अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर पैर रखा है, जबकि 'मी टू' चन्नी जैसे व्यक्तियों को बेनकाब करने तथा सजा देने की मांग करती है।

सुखबीर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी कहा कि वह जवाब दें कि रेत माफिया से जुड़े होने समेत हमेशा विवादों में उलझे रहने वाले चरणजीत चन्नी को क्यों बचाया जा रहा है? राहुल तथा कांग्रेस पार्टी ने केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर संपादक समय के कार्यकाल के दौरान महिलाओं का यौन उत्पीडऩ करने के दोष लगने पर तुरंत इस्तीफे मांग लिया था। अब पंजाब में यौन शोषण के आरोपों में घिरे मंत्री को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

महिलाओं के प्रति कांग्रेस का दोहरा चेहरा सामने आया : आप

आम आदमी पार्टी के विधायक अमन अरोड़ा का कहना है कि मंत्री द्वारा महिला आइएएस अधिकारी को अभद्र संदेश भेजने और परेशान करने के मामले के बाद कांग्र्रेस का महिलाओं के प्रति दोहरा चेहरा सामने आ गया है। यह निंदनीय है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी तक ने महिला अधिकारी को इंसाफ देने और मंत्री पर कार्रवाई करने की बजाए शिकायत को दबाने की कोशिश की। एक तरफ कांग्रेस ने महिलाओं का शारीरिक व मानसिक शोषण करने के आरोपों में घिरे केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता एमजे अकबर का इस्तीफा मांगा था, दूसरी तरफ अपने मंत्री पर लगे उसी तरह के दोषों को वह दबा रही है।

यह भी पढ़ें: तो चन्नी ने मान ली 'गलती', धर्मसंकट में कांग्रेस, कैबिनेट से हो सकती है छुट्टी

पुलिस से शिकायत करनी चाहिए : बाजवा

पठानकोट। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश प्रधान व राज्यसभा सदस्य प्रताप ङ्क्षसह बाजवा ने कहा कि किसी महिला अधिकारी ने कैबिनेट मंत्री के खिलाफ कोई शिकायत नहीं दी है। कोई भी शिकायत है या किसी ने छेड़छाड़ की है तो पुलिस से उसकी शिकायत की जानी चाहिए। बिना वजह किसी पर कोई आरोप नहीं लगाए जा सकते।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!