आनलाइन डेस्क, चंडीगढ़। फतेहगढ़ साहिब पुलिस ने नशीली दवाएं तैयार करने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने हरियाणा के रहने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर उससे 2.51 लाख फार्मा ओपियाड बरामद की हैं। एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स कम रोपड़ रेंज के डीआइजी गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने बताया कि गिरफ्तार किया गया व्यक्ति रणजीत गोस्वामी हरियाणा को सोनीपत स्थित बत्रा कालोनी का रहने वाला है। 

पुलिस के मुताबिक रणजीत गोस्वामी नशीली गोलियों की सप्लाई अपनी किआ कार से करता था। आरोपित से अल्पराजोलम की 2,37,000 गोलियां व पीवोन सपास के 14,400 कैप्सूल बरामद किए गए हैं। 

यह तीसरा ऐसा अंतरराज्यीय फार्मास्यूटिकल ड्रग रैकेट है, जिसका फतेहगढ़ साहिब जिला पुलिस की तरफ से तीन महीनों से भी कम समय में पर्दाफाश किया गया है। इससे पहले, फतेहगढ़ साहिब पुलिस ने 14 जुलाई, 2022 को फार्मा ओपियाडज की 7 लाख गोलियां/ कैपसल की खेप बरामद की थी, जबकि 4 सितंबर 2022 को फार्मा ओपियाडज की 1.17 लाख गोलियां/ कैपसूल बरामद किए गए थे।

डीआइजी गुरप्रीत भुल्लर ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर सीआइए सरहिंद और थाना खमाणों की पुलिस टीमों ने खमाणों में विशेष चेकिंग की और रजिस्ट्रेशन नंबर एचआरएजे 9791 वाली कीआ’कार को रोका, जिसको रणजीत गोस्वामी चला रहा था। उन्होंने बताया कि कार की चेकिंग के दौरान पुलिस टीमों ने बड़ी मात्रा में फार्मा ओपियाडज बरामद की।

फतेहगढ़ साहिब के एसएसपी डा. रवजोत ग्रेवाल ने बताया कि प्राथमिक जांच के दौरान यह बात सामने आई है कि गिरफ्तार किया गया आरोपित दिल्ली और अमृतसर में ट्रांसपोर्ट का कारोबार करता है। उन्होंने बताया कि आरोपित ने कबूला है कि वह पिछले कुछ सालों से पंजाब में फार्मा ओपियाड की सप्लाई कर रहा है और उसके ज्यादातर ग्राहक मोगा और लुधियाना में हैं।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने मुलजिम को अदालत में पेश करके तीन दिन का पुलिस रिमांड हासिल कर लिया है और आगे पूछताछ की जा रही है। बता दें थाना फतेहगढ़ साहिब में एनडीपीएस एक्ट की धारा 22 (सी) के अंतर्गत एफआइआर नंबर 131 दर्ज की गई है।

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट