मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने पेट्रोल व डीजल की बढ़ती कीमतों पर कोई राहत देने से इन्कार कर दिया है। सरकार ने कहा है कि वैट में कोई कमी नहीं की जाएगी। वित्तमंत्री मनप्रीत बादल का कहना है कि पिछले दस सालों में पंजाब ने कभी भी पेट्रोल की कीमतों पर टैक्स नहीं बढ़ाया, जबकि केंद्र सरकार ने नौ बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी है। ऐसे में अब अगर क्रूड ऑयल की कीमतें बढ़ रही हैं तो केंद्र सरकार को एक्साइज ड्यूटी कम करके राहत देनी चाहिए।

केंद्र सरकार एक्साइज ड्यूटी कम करके दे राहत : मनप्रीत बादल

मनप्रीत ने अनौपचारिक बातचीत में कहा कि पंजाब को पेट्रोल और डीजल पर एक रुपया रेट कम करने से 400 करोड़ रुपये का नुकसान होता है। उल्लेखनीय है कि पंजाब में पेट्रोल पर 35.35 फीसद वैट लगा हुआ है। यह देश के उन पांच राज्यों में शामिल है जहां पेट्रोल पर सबसे ज्यादा वैट है। उत्तर भारत के राज्यों में सबसे ज्यादा वैट पंजाब में ही है।

पंजाब में 10 साल से टैक्स नहीं बढ़ा, केंद्र ने 9 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी

मनप्रीत ने कहा कि सेंट्रल एक्साइज में राज्यों को 42 फीसद हिस्सा मिलता है। इस राशि से ज्यादा हिस्सेदारी राज्यों को न मिले, इसके लिए केंद्र सरकार ने एक्साइज की बजाए स्पेशल एक्साइज ड्यूटी लगाकर इसे बढ़ाना शुरू कर दिया है। स्पेशल एक्साइज ड्यूटी में राज्यों को कोई पैसा नहीं मिलता।

जीएसटी से नहीं हुआ फायदा

वित्तमंत्री मनप्रीत बादल ने कहा कि जीएसटी से साल भर में जुटाए जाने वाले टैक्सों का पंजाब को ज्यादा फायदा नहीं हुआ है। वैट के मुकाबले ये 1586 करोड़ रुपये कम हैं। केंद्र सरकार हमें 14 फीसद हर साल वृद्धि तो दे रही है लेकिन यह केवल पांच साल तक ही मिलेगी, उसके बाद क्या होगा?

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!