डॉ सुमित सिंह श्योराण, चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Punjab CM Charanjeet singh channi) ने अपने गाइड प्रो. को 'गुरुदक्षिणा' में कैबिनेट रैंक दिया है। सीएम चन्नी पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ (PU Chandigarh) से पीएचडी (Phd) कर रहे हैं। चन्नी पंजाब यूनिवर्सिटी के यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (यूसोल) में पालिटिकल साइंस के प्रोफेसर इमैनुअल नाहर की देखरेख में पीएचडी कर रहे हैं। इसलिए प्रो. इमैनुअल नाहर को पंजाब सरकार ने कैबिनेट का रैंक दिया है। प्रो. नाहर इस समय पंजाब में कमीशन फार माइनोरिटी के चेयरमैन पद पर कार्यरत्त हैं।

बता दें कि चरणजीत सिंह चन्नी की पीएचडी पूरी होने के बाद उनके नाम के आगे डॉक्टर लग जाएगा।  कैबिनेट रैंक दिए जाने के बाद प्रो.नाहर को बधाइयों का दौर शुरू हो गया। प्रो.नाहर पंजाब यूनिवर्सिटी में पूर्व डीएसडब्ल्यू भी रह चुके हैं। कालेज और यूनिवर्सिटी प्रोफेसर को सातवां पे स्केल देने और यूजीसी डिलिंक को लेकर नाहर शिक्षकों और पंजाब के मुख्यमंत्री के बीच काफी समय से मध्यस्थता की भूमिका में हैं। हजारों शिक्षकों को अभी सातवां पे स्केल तो नहीं मिल सका, लेकिन पंजाब सरकार ने प्रो.नाहर को कैबिनेट रैंक का तोहफा दे दिया। पीयू के कई प्रोफेसर मंगलवार को प्रो.नाहर को बधाई देने पहुंचे।

प्रो. इमैनुअल नाहर को कैबिनेट रैंक मिलने के बाद मुंह मीठा करवाते डॉ. शलील बंसल।

पहले रिसर्च स्कॉलर और पीयू सीनेटर भी है सीएम चन्नी

यह भी एक संयोग है कि पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब यूनिवर्सिटी में दो भूमिकाओं में हैं। पहला वह पंजाब यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कॉलर हैं। तो दूसरी तरफ वह मुख्यमंत्री बनकर सीनेट के सदस्य भी बन गए हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री पीयू सीनेट के एक्स ऑफिशियो मेंबर के तौर पर सीनेटर होते हैं। चरणजीत सिंह चन्नी की कॉलेज और यूनिवर्सिटी स्तर पर पढ़ाई चंडीगढ़ में ही हुई है। शहर के सेक्टर 26 गुरु गोविंद सिंह कॉलेज से उन्होंने 1984 में स्नातक की डिग्री हासिल की है। एनसीसी कैडेट और हैंडबॉल के खिलाड़ी भी रहे हैं ।

Edited By: Ankesh Thakur