जेएनएन, चंडीगढ़। ड्रग्स के विरुद्ध STF बनाकर आक्रामक शुरूआत करने वाली कांग्रेस सरकार फिर आक्रामक होगी। लोकसभा चुनाव के दौरान भी ड्रग्स का मुद्दा काफी गर्म रहा। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ड्रग्स के मुद्दे पर अपनी सरकार की पहचान बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। इस क्रम में अब सरकार की नजर उन पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों पर रहेगी जो ड्रग्स तस्करों के संपर्क में रहते हैंं।

एक उच्चस्तरीय बैठक में कैप्टन ने STF के ADGP गुरप्रीत देयो को सख्त निर्देश दिए कि नशों की तस्करी में लिप्त पुलिस कर्मचारियों की पहचान करेें और ऐसे लोगों पर कड़ी कार्रवाई करें। उन्होंने सीमावर्ती जिलों में तैनात पुलिस कर्मचारियों की जांच कर दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने को कहा। उन्होंने ADGP को सभी सीमावर्ती जिलों में STF की दो टीमें गठित करने के लिए निर्देश दिए हैं। 

जगदीश भोला के मामले में शामिल उसके साथियों को सुपुर्द करने में तेजी लाने के लिए मुख्यमंत्री ने उन दोषियों को जल्द वापस लाने के लिए यह मामला विदेश मंत्रालय के समक्ष उठाने के लिए मुख्य सचिव करन अवतार सिंह को कहा है। कैप्टन ने अदालतों में मामलों को प्रभावी ढंग से पेश करने के लिए पुलिस कर्मचारियों को समर्थ बनाने के लिए उनको व्यावहारिक प्रशिक्षण देने के लिए पूर्व जजों, वकीलों, कानून विशेषज्ञों का एक पैनल बनाने के लिए एडवोकेट जनरल अतुल नंदा को कहा है।

मुख्यमंत्री ने निजी नशामुक्ति केंद्रों के कामकाज पर नियमित तौर पर निगरानी रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग को कहा है। यह केंद्र निम्नस्तर की सेवाएं देते हैं और नशों के इलाज के लिए बहुत ऊंची दरें वसूलते हैं। मुख्यमंत्री ने नशों में फंसे व्यक्तियों और उनके परिवारों से अपील की है कि वह सरकार द्वारा चलाए जा रहे पुनर्वास केंद्रों में बढ़िया इलाज प्राप्त करने के लिए आगे आएं और निजी सेेक्टर के जाल में न फंसें। बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य प्रमुख सचिव सुरेश कुमार, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव तेजवीर सिंह, कार्यकारी डीजीपी वीके भावड़ा आदि उपस्थित थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!