जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब, हरियाणा एवं चंडीगढ़ में भी आज छठ पूजा की धूम है। चंडीगढ़ और दाेनों राज्‍याें में विभिन्‍न स्‍थानों पर भारी संख्‍या में बिहार और पूर्वांचल के लोग सरोवरों, तालाबों और नदियों के किनारे छठ महापर्व मना रहे हैं। आज अस्‍ताचलगामी सूर्य को अर्घ्‍य दिया गया।

छह पूजा के लिए सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। ट्रैफिक व्‍यवस्‍था को भी खास व्‍यवस्‍था की गई है। चंडीगढ़ में श्रद्धालु सेक्‍टर 42 की झील सहित विभिन्‍न स्‍थानों पर छठ पूजा हो रही है। सेक्‍टर 42 में हजारों की संख्‍या में श्रद्धालुओं ने अस्‍तचलगामी सूर्य की पूजा की और अर्घ्‍य दिया। यहां बनाए गए घाटों को बहुत सुंदर तरीके से सजाया गया था। रोशनी की भी अच्‍छी व्‍यवस्‍था की गई है। यहां चंडीगढ़ की सांसद किरण खेर भी पहुंचीं और पूर्वांचल के लोगों को छठ महापर्व की शुभकामनाएं दीं।

चंडीगढ़ के सेक्‍टर 42 की झील में छठ पूजा करते श्रद्धालु।

पंजाब के लुधियाना, जालंधर, अमृतसर, बठिंडा और पटियाला सहित विभिन्‍न शहरों में रह रहे पूर्वांचल के लोगों ने नदियों, सरोवरों और तालाबों के किनारे छठ महापर्व मनाया और पूजन किया। महिलाएं इस माैके पर मंगलगीत और छठ पूजा के गीत गा रही थीं। पूजन के लिए नदियों, सरोवरों और तालाबों के किनारे पर घाटों को बहुत सुंदर ढ़ंग से सजाया गया था।

चंडीगढ़ के सेक्‍टर 42 की झील में छठ पूजा करते श्रद्धालु।

छठ पूजा के अवसर पर अधिकतर जगहों पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। लोग इसका खूब आनंद ले रहे हैं और पूरा माहौल भक्तिमय बन गया है। अब लोग सुबह में उगते सूर्य की पूजा करेंगे और अर्घ्‍य देंगे। इसके साथ ही पांच दिनों का यह महापर्व संपन्‍न हो जाएगा। छठ पूजन के लिए श्रद्धालु विभिन्‍न तरीके के पकवान बनाते हैं और व्रती चार दिनों का उपवास रखते हैं। यह उपवास उगते सूर्य को अर्घ्‍य देने के साथ संपन्‍न होता है।

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!