कुलदीप शुक्ला, चंडीगढ़। फिल्मी लाइफ स्टाइल और आधुनिकता की चकाचौंध के बीच बच्चे अक्सर गुमराह होकर पेरेंट्स की बात अनसुनी कर मनमानी करते हैं। कई बार इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ती है। घरवालों की बातों से परेशान होकर दोस्त के साथ पुणे से भागी 14 साल की लड़की के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। स्टेशन पर दोस्त ने साथ छोड़ दिया। फिर, मदद के नाम पर एक के बाद एक 13 लोगों ने उसे अपनी हवश का शिकार बनाया। पुणे के एक अस्पताल में भर्ती पीड़ित लड़की का कहना है कि अब तो उसे खुद पर भी भरोसा नहीं रह गया है। उसे इंसानों की भीड़ से डर लगने लगा है।

दिल दहला देने वाले सामूहिक दुष्कर्म के इस मामले में पुणे पुलिस ने 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन आरोपितों ने पुणे में अलग-अलग जगहों पर उसे शिकार बनाया। पुलिस ने अब तक राम प्रसाद कुमार, गोलू, रफीक शेख, आसिफ पठान, प्रशांत, नोएल खान, अजर्रुदीन अंसारी, अकबर शेख, सहित 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने रिक्शे से रेलवे स्टेशन लेकर जाने वाले, रेलवे के कर्मचारी, आटो चालक और उसका साथी, पीड़िता का एक दोस्त भी शामिल हैं।

जिससे भी मदद मांगी, उसने दुष्कर्म किया

हैवानियत का शिकार हुई किशोरी किसी तरह पुणे में ट्रेन में बैठ गई और चंडीगढ़ पहुंची।मंगलवार को चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर जीआरपी नजर लड़की पर पड़ी तो जवानों को शक हुआ। जीआरपी ने तुरंत चाइल्ड हेल्पलाइन को इस बारे सूचित किया। इसके बाद 1098 चाइल्ड हेल्पलाइन ने नाबालिग को रेस्क्यू किया। वहीं, सूत्रों के अनुसार वह दोस्त के साथ भागने के लिए रेलवे स्टेशन आई थी, लेकिन उस लड़के ने मौके पर इन्कार कर दिया। इसके बाद लड़की ने जिस किसी से भी मदद की गुहार लगाई, उसने मदद के बहाने दुष्कर्म किया। 

सबसे पहले आटो ड्राइवर और उसके 10 दोस्तों ने बनाया शिकार

पुणे पुलिस की काउंसिलिंग में सामने आया कि रोते देखकर उसकी मदद करने आए सबसे पहले आटो ड्राइवर ने अपने 10 दोस्तों के साथ मिलकर अलग-अलग समय पर दुष्कर्म किया। आरोपितों ने उसे पानी में कुछ नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया था।

कपड़ें की भीख मांगती रही, अब इंसान को देख डर रही

जानकारी के अनुसार पुणे पुलिस की जांच में सामने आया कि पीड़िता आरोपितों से कपड़ों की भीख मांगती रही। वह बार-बार आरोपितों से गिड़गिड़ाती थी उसके कपड़े उसे दे दो। आरोपितों ने उसके शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी भी दी। वहीं, अब अस्पताल में इलाज के दौरान वह इंसानों को आसपा देखकर भी डर रही है। 

Edited By: Pankaj Dwivedi