चंडीगढ़, जेएनएन। सेक्टर-22 लाइट प्वाइंट पर बाइक सवार पीजीआइ के नर्सिंग ऑफिसर ने पत्नी के हेलमेट नहीं पहने होने पर डीएसपी ट्रैफिक के खिलाफ मारपीट करने और मुंह पर मुक्का मारकर लहूलुहान करने के गंभीर आरोप लगाए हैं। हालांकि डीएसपी एसपीएस सोंधी ने बाइक सवार शिवनाथ आरोपों को झूठा बता रहे हैं।मौके पर काफी विवाद और हंगामे के बीच पहुंची पुलिस डीएसपी और नर्सिग ऑफिसर को जीएमएसएच-16 में मेडिकल करवाने लेकर गई। दोनों पक्षों की शिकायत पर सेक्टर-17 थाना पुलिस कार्रवाई में लगी है।

बाइक सवार 33 वर्षीय शिवनाथ ने बताया कि वे परिवार के साथ सारंगपुर में रहते हैं और पीजीआइ में नर्सिग ऑफिसर की पोस्ट पर हैं। शनिवार सुबह सेक्टर-22 स्थित एमडीएवी स्कूल में पत्नी और बच्चे के साथ बाइक से पेरेंट्स मीटिंग में शामिल होने गए थे। वापसी के समय सेक्टर-22 शास्त्री मार्केट की बैकसाइड लाइट प्वाइंट पर रेड लाइट होने पर रुक गए। इस दौरान पीछे से चंडीगढ़ नंबर की इनोवा कार में डीएसपी आ गए। वे नीचे आकर बोलने लगे कि पत्नी को हेलमेट क्यों नहीं पहनाया है, तुम लोग कभी सुधरोगे नहीं।

शिवनाथ ने आरोप लगाया कि अपनी गलती मानने के बावजूद डीएसपी उनके साथ हाथापाई करने लगे और बीच-बचाव में मुंह पर जोर से मुक्का मार लहूलुहान कर दिया। जिसके बाद तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कर उन्होंने पुलिस बुला ली।

वहीं सेंट्रल ट्रैफिक डीएसपी सोंधी ने बताया कि वे अपनी सरकारी गाड़ी में मीटिंग अटेंड करने जा रहे थे। सेक्टर-22 लाइट प्वाइंट पर नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत बाइक सवार को पत्नी को भी हेलमेट पहनाकर चलने की सलाह देने लगे। इसी बीच सिविल ड्रेस में होने के कारण बाइक सवार उनके साथ जोर-जोर बात करने के साथ धक्के मारने लगा। इस दौरान साथ में मौजूद पुलिसकर्मियों द्वारा बीच-बचाव में बाइक सवार के हेलमेट से मुंह पर चोट लग गई।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!