जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस में आकर पढ़ने के इच्छुक स्टूडेंट्स को अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। पीयू प्रशासन ने फिलहाल किसी भी नए स्टूडेंट को पीयू हास्टल में कमरा नहीं देने का फैसला लिया है। पीयू में फिलहाल सभी विभागों में पढ़ाई ऑनलाइन ही जारी रहेगी।

सूत्रों के अनुसार पीयू कैंपस में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के कारण फिलहाल मार्च तक स्टूडेंटस की एंट्री पर रोक लगा दी है। सूत्रों के अनुसार कोरोना के कारण पंजाब यूनिवर्सिटी जनवरी में होने वाली परीक्षाओं को ऑनलाइन आयोजित करने जा रही है। 17 जनवरी से प्रैक्टिकल और 24 जनवरी से लिखित परीक्षाएं शुरू होंगी। ऑनलाइन परीक्षा के कारण सभी स्टूडेंट्स घर बैठकर ही परीक्षा दे सकेंगे। ऐसे में स्टूडेंट्स को परीक्षाओं के बाद ही कैंपस में बुलाने पर विचार किया जाएगा।

इस समय पंजाब यूनिवर्सिटी के लड़के और लड़कियों के करीब 20 हास्टल में करीब एक हजार स्टूडेंट्स रह रहे हैं, इन स्टूडेंट्स में भी अधिकतर रिसर्च स्कॉलर, साइंस संकाय के फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स शामिल हैं। बीते हफ्ते भर में पीयू के डेंटल कालेज के अलावा अन्य विभागों में 40 से अधिक अधिकारी, प्रोफेसर और स्टूडेंट्स कोरोना पाजिटिव आ चुके हैं। पीयू ने अगले कुछ दिनों से लिए पीयू कैंपस के अधिकतर विभागों को भी बंद कर दिया है। हॉस्टलर्स के बाहरी लोगों से मिलने पर पाबंदी

पीयू हास्टल खोलने को लेकर बीते महीनों में छात्र संगठनों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी, जिसके बाद सभी रिसर्च स्कॉलर और 15 के करीब साइंस और इंजीनियरिग विभागों में स्टूडेंट्स की एंट्री दे दी गई। अधिकतर स्टूडेंट्स पीयू हॉस्टल में रहते हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद पीयू ने सभी हॉस्टल वार्डन के माध्यम से स्टूडेंट्स को अपने कमरों में ही रहने और बाहरी लोगों से मिलने पर पाबंदी लगाने को कहा है। किसी भी स्टूडेंट के कमरे में बिना अनुमति बाहरी व्यक्ति को एंट्री नहीं दी जाएगी। हॉस्टल गेट पर भी सख्ती बरती जा रही है। स्टूडेंट्स को हॉस्टल रजिस्टर में एंट्री के बाद ही बाहर जाने की अनुमति दी गई है। पीयू के सभी विभाग फिलहाल रविवार तक बंद रखने के निर्देश जारी किए हुए हैं। पेक ने दी स्टूडेंट्स को हॉस्टल की अनुमित

कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद पंजाब इंजीनियरिग कालेज ने भी अधिकतर कक्षाओं की पढ़ाई ऑनलाइन शुरू कर दी है, लेकिन पेक प्रशासन ने उन स्टूडेंट्स को हॉस्टल में रहने की अनुमति दे दी है जो हॉस्टल में रहकर तैयारी करना चाहते हैं। पेक डायरेक्टर प्रो. बलदेव सेतिया ने कहा कि अगर कोई स्टूडेंट हॉस्टल में रहना चाहता है तो प्रशासन को कोई ऐतराज नहीं है। उन्होंने कहा कि स्टूडेंट्स की सेफ्टी हमारी पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि पेक में बहुत से स्टूडेंट्स दूसरे राज्यों से हैं। ऐसे में उनका हॉस्टल में रहना ही सुरक्षित है।

Edited By: Jagran