जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। व्यापार मंडल चंडीगढ़ में इस समय शहर में एक नए व्यापारी संगठन के गठन और उसकी गतिविधियों को लेकर बवाल मचा हुआ है। इसलिए कैलाश चंद जैन को व्यापार मंडल से बाहर का रास्ता दिखाने के लिए जनरल हाउस की बैठक बुलाई जा रही है। बैठक में जैन को निकालने का प्रस्ताव लाया जा रहा है। जिस पर कैलाश जैन ने व्यापार मंडल के सदस्यों को खुला पत्र लिखा है। जैन ने कहा है कि यह व्यापार मंडल के पदाधिकारीयों का गलत और गैर कानूनी एक्शन है।

बता दें कि जैन ने इस समय अपना नया व्यापारी संगठन बनाया हुआ है, जिसका नाम उद्योग व्यापार मंडल है। इसको लेकर व्यापार मंडल के सदस्य एतराज जता रहे हैं। इसके लिए जैन को नोटिस भी जारी किया गया था। व्यापार मंडल की अनुशासत्मक कमेटी ने जैन को सलाह दी गई है कि वह अपने बनाए गए संगठन को खत्म कर दें और व्यापार मंडल की मजबूती के लिए काम करें, लेकिन इसके लिए जैन तैयार नहीं है।

कैलाश चंद जैन भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता हैं। जैन का कहना है कि व्यापार मंडल के संविधान में ऐसा कोई नियम नहीं है कि उसका पदाधिकारी शहर की किसी अन्य एसोसिएशन का सदस्य नहीं बन सकता। जैन इस समय व्यापार मंडल के समांतर अपने संगठन उद्योग व्यापार मंडल की गतिविधियां बढ़ा रहे हैं। उन्होंने अपनी कार्यकारिणी का भी गठन कर लिया है, जो कि समय समय पर व्यापारियों के मुद्दों लेकर प्रशासन और  नगर निगम के अधिकारियों को मिलते भी हैं। इसी बात को लेकर व्यापार मंडल के अध्यक्ष सहित पदाधिकारी नाराज हैं।

चंडीगढ़ व्यापार मंडल पिछले 40 साल से शहर में सक्रिय है, जिसके अध्यक्ष चरणजीव सिंह हैं जो कि नगर निगम में मनोनीत पार्षद भी हैं। जैन की ओर से गठित उद्योग व्यापार मंडल द्वारा शहर में एक कार्यक्रम किया जा रहा है, जिसमें चंडीगढ़ के एसएसपी को बुलाया जा रहा है। उद्योग व्यापार मंडल में अलग अलग बाजारों से व्यापारियों को जोड़कर सदस्य बनाए जा रहे हैं, जिसे व्यापार मंडल गलत बता रहा है। इन नेताओं का कहना है कि इससे व्यापारियों की एकता पर भी फर्क पड़ रहा है। जबकि शहर के व्यापारी एकजुट होने चाहिए।

कैलाश जैन का कहना है कि उन्होंने कभी भी किसी प्रकार  से चंडीगढ़ व्यापार मंडल के संविधान के खिलाफ काम नहीं किया है और न ही कुछ गलत बयान दिया। हमेशा व्यापारियों के हित की बात की है। व्यापारियों के लिए काम कर रहा हूं और आगे भी करता रहूंगा। उद्योग व्यपार मंडल शहर की एक संस्था है, जिसका वह भी एक सदस्य हैं। लेकिन चंडीगढ़ व्यापार मंडल के संविधान के अनुसार ऐसी कहीं भी कोई मनाही नहीं है कि एक व्यक्ति किसी और संस्था का सदस्य नही बन सकता। व्यापार मंडल के संविधान में केवल मार्केट्स की पैरलल बॉडी को चंडीगढ़ व्यापार मंडल का मेंबर न बनाए जाने की बात कही गई हैं। किसी व्यक्तिगत सदस्य को किसी अन्य संस्था का मेंबर बनने की मनाही नहीं है। उनका कहना है कि इस समय बहुत से सदस्य अलग अलग कई संस्थाओं के सदस्य भी है।

Edited By: Ankesh Thakur