पंचकूला, जेएनएन। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने पंचकूला के छात्र से एक वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान संवाद किया। यह कार्यक्रम 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद होने के बाद छात्रों के विचार जानने के लिए आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में देशभर के करीब 17 स्टूडेंट्स का चयन किया गया था, जिसमें पंचकूला के हितेश्वर शर्मा भी शामिल हुए थे। 

पंचकूला के सेक्टर-15 स्थित भवन विद्यालय के 12वीं कक्षा के हितेश्वर शर्मा को वीरवार को प्रधानमंत्री के साथ बातचीत करने का अवसर मिला। वह देश भर के उन 17 छात्रों में से एक थे, जिन्होंने प्रधानमंत्री के साथ वर्युअल माध्यम से संवाद किया। कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने उनसे 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद करने पर उनके विचार जाने। बता दें कि हितेश्वर शर्मा 10वीं कक्षा में नेशनल टॉपर रहे हैं। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री के सवालों के जवाब दिए।

प्रधानमंत्री मोदी के सवाल पर हितेश्वर ने कहा कि परीक्षा रद होने पर शुरू में उन्हें बुरा लगा, क्योंकि वह एक बार फिर टॉपर बनने की उम्मीद कर रहे थे। हालांकि उन्हें खुशी है कि प्रधानमंत्री ने छात्रों की भलाई को किसी और चीज से ज्यादा माना। उन्होंने उन्हें अपने शब्दों की याद दिला दी कि जीवन की परीक्षा का मूल्य अंकों से ज्यादा होता है और हमें इसी बात पर ध्यान देना चाहिए। ज्ञान कभी नष्ट नहीं होता, वो कहीं न कहीं काम जरूर आता है।

प्रधानमंत्री ने विश्व पर्यावरण दिवस, अंतरराष्ट्रीय योग दिवस और स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ और इसमें युवाओं की भूमिका के बारे में भी चर्चा की। प्रधानमंत्री ने हितेश्वर से पूछा कि वह पंचकूला में कहां रहते हैं, जिस पर उन्होंने कहा कि वह सेक्टर-10 में पंचकूला में रहते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह सेक्टर-7 में रहते थे। यह शहर बहुत सुंदर है। मैं लंबे समय तक यहां रहा हूं। प्रधानमंत्री ने हितेश्वर से कहा कि आपसे बात करके उनकी पंचकूला की यादें ताजा हो गईं। हितेश्वर शर्मा ने कहा कि आपने आप्शन रखा है कि दोबारा पेपर दे सकते हैं, यह भी एक अच्छा फैसला है। प्रधानमंत्री ने उनके माता-पिता से भी बात की। हितेश्वर शर्मा के पिता आशुतोष राजन एचसीएस अधिकारी हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप