विकास शर्मा, चंडीगढ़ : पद्मश्री बाबा सेवा सिंह ने रविवार को दैनिक जागरण और आर्गेनिक शेयरिग संस्था की पहल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण सरंक्षण से जुड़ी हस्तियों को सम्मानित करने से इन पर्यावरण प्रहरियों का मनोबल और बढ़ेगा। यह लोग और अधिक जिम्मेदारी के साथ अपना काम करेंगे। पेड़ कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण कर हमें ऑक्सीजन देते हैं। यह सिर्फ पेड़ ही कर सकते हैं, कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में बदलने का कोई और फार्मूला नहीं है। आप एक पेड़ लगा दो, वो वर्षो तक 84 लाख योनियों के लिए लंगर है। पेड़ हमें शुद्ध हवा देते हैं, गर्मी से बचने के छांव देते हैं, फर्नीचर के लिए लकड़ी देते हैं, तूफानों की रफ्तार और भूमि कटाव को रोकते हैं। एक पेड़ लगाना सदियों तक लंगर लगाने के बराबर है। इसलिए हमें मिलकर पर्यावरण सरंक्षण को बढ़ावा देना चाहिए। 75 साल बाद भी जागरण ने नहीं छोड़े अपने सरोकार : मोहिदर कुमार

दैनिक जागरण ग्रेटर पंजाब के मुख्य महाप्रबंधक मोहिदर कुमार ने इस दौरान इन पर्यावरण प्रहरियों को संबोधित करते हुए कहा कि 75 साल पहले दैनिक जागरण अखबार की शुरुआत हुई थी। आज अखबार 11 टाइटल्स के साथ देशभर में पांच भाषाओं में प्रकाशित होता है। इसके अलावा एफएम रेडियो के माध्यम से हम सीधे लोगों से जुड़े हैं। हमारा दायरा साल दर साल बढ़ा है लेकिन हमने अपने सरोकारों से हमेशा जुड़े रहे। इस साल हमने 22 जुलाई को पीजीजीसी-11 से अपने पौधारोपण अभियान की शुरुआत की थी। अभियान की शुरुआत करने से पहले ही हमारा फोकस था कि पौधारोपण वहीं किया जाए, जहां लगाए गए पौधों की संभाल हो सके। इसलिए हमने शहर की चुनिंदा 122 जगहों पर पौधारोपण किया। इस अभियान में जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते गए, वैसे पर्यावरण सरंक्षण से जुड़े लोग भी हमारे साथ जुड़ते गए। आर्गेनिक शेयरिग संस्था ने बढ़-चढ़कर इसमें भाग लिया, खुशी की बात यह है कि आज जब हम पहले फील्डमैन ग्रीन अवॉर्ड का आयोजन कर रहे हैं, इस कार्यक्रम में पद्मश्री सेवा सिंह जैसी हस्ती मुख्य अतिथि के तौर पहुंची है। सरदार सेवा सिंह का जीवन हम सबके लिए प्ररेणा का स्त्रोत है। पर्यावरण सरंक्षण भी बने चुनावी मुद्दा : अमित शर्मा

दैनिक जागरण पंजाब के रेजिडेंट एडिटर अमित शर्मा ने कहा कि पर्यावरण कैसे बचाया जाए, इसकी चिता हम सबको है। हम अपने अखबार के माध्यम से जमीन स्तर पर पर्यावरण सरंक्षण को लेकर काम कर रहे हैं। बावजूद इसके पर्यावरण सरंक्षण की दिशा में अभी भी काफी काम करने की जरूरत है। अभी तक पर्यावरण संरक्षण किसी भी राजनीतिक दल का एजेंडा नहीं बना है। जब तक पर्यावरण सरंक्षण चुनावी एजेंडा नहीं बनता तब तक हमारे प्रयास पूरी तरह से फलीभूत नहीं होंगे। जब पर्यावरण संरक्षण चुनावी एजेंडा बन जाएगा तो ज्यादा से ज्यादा लोग इससे जुड़ेंगे, जागरूक होंगे तब हमें मनचाहे रिजल्ट्स देखने को मिलेंगे। दुनिया के हर धर्मग्रंथ में दी गई है पर्यावरण संरक्षण को तवज्जो : वरिदर वालिया

पंजाबी जागरण के एडिटर वरिदर वालिया ने कहा कि सिख धर्म समेत दुनिया के हर धर्म ने पर्यावरण संरक्षण को तवज्जो दी है। जन्म से लेकर मरण तक हमारे तमाम तरह के संस्कार पर्यावरण से जुड़े हुए हैं। जीने के लिए तमाम तरह की चीजें कुदरत ने हमें मुफ्त में बख्शी हैं। पानी, हवा, भोजन सब पेड़-पौधों से जुड़ा है। हमारे संत, हमारे कवि सब समय-समय पर भविष्य में आने वाली चुनौतियों के बारे में आगाह करते रहते हैं। इसलिए हमें समझना होगा हम अपनी आने वाली पीढि़यों को कैसा भविष्य देने जा रहे हैं। हमारे सामाज में पद्मश्री बाबा सेवा सिंह जैसे भी लोग हैं जिन्होंने इसी दिशा में अपना जीवन लगा दिया है। हमें भी अपनी तरफ से प्रयास करने चाहिए, यह हम सबकी भावी पीढ़ी के लिए जिम्मेदारी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!