चंडीगढ़, बलवान करिवाल। चंडीगढ़ में संक्रमण की चेन लगातार लंबी होती जा रही है। अब रेजिडेंशियल, कमर्शियल या कोई और एरिया ऐसा नहीं बचा है जहां पर कोरोना वायरस न पहुंचा हो। इतना ही नहीं पंजाब राजभवन, यूटी सेक्रेटेरिएट, डीसी ऑफिस, एसडीएम ऑफिस ,पुलिस हेड क्वार्टर से लेकर लगभग सभी डिपार्टमेंट में भी कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। संक्रमण आगे न बढ़े इसको देखते हुए यूटी प्रशासन ने फाइलों की मूवमेंट कम से कम करने का फैसला लिया है। जिससे फाइल के साथ संक्रमण भी एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर न हो जाए।

प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने ऑनलाइन या ई-ऑफिस के माध्यम से ही काम करने के आदेश दिए हैं। बहुत जरूरी होने पर ही फिजिकल फाइल एक जगह से दूसरी जगह जाएगी। बता दें कि यूटी प्रशासन में फाइल डीलिंग हेड से होते हुए सुपरिंटेंडेंट सेक्रेटरी एडवाइजर और फिर प्रशासक तक जाती है। इन फाइलों को इंप्लाइज ही आगे पहुंचाते हैं। जिससे कई जगह संपर्क में आने से इंफेक्शन ट्रांसफर होने का खतरा बढ़ जाता है।

एडवाइजर मनोज परिदा ने सभी डिपार्टमेंट निगम बोर्ड को इन बातों का विशेष तौर पर ध्यान रखने के लिए कहा है। ऑफिस कार्यप्रणाली के दौरान दोगुनी सावधानी बरतने के आदेश दिए गए हैं। गौर हो कि चंडीगढ़ में कोरोना संक्रमण का कहर जारी है। कुल संक्रमित मामले 10,000 के आसपास हो चुके हैं जबकि 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। बुधवार को छह लोगों की मौत होने से सभी सकते हैं।

इंफोसिस सराय को बनाया अस्पताल

संक्रमण बढ़ने पर अब हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को तेजी से बढ़ाया जा रहा है। पीजीआइ के पास बनी इंफोसिस सराय को कोविड-19 अस्पताल में तबदील कर दिया गया है। यहां 200 बेड की व्यवस्था की गई है, जिससे अतिरिक्त 200 लोगों का इलाज हो सके। इसके अलावा गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल सेक्टर 32 में भी अतिरिक्त 185 बेड बनाए गए हैं। जिससे कोरोना मरीजों को समय पर इलाज मुहैया करवाया जा सकेगा।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!