जागरण संवाददाता, मोहाली : जिला मोहाली में अवैध पेइंग गेस्ट (पीजी) का धंधा जोरों पर है। सबसे ज्यादा बुरे हालात नयागांव, खरड़, बलौंगी, जीरकपुर में है। इन जगहों पर कई बार गैंगस्टर भी पकड़े गए हैं। प्रशासन की ओर से हर घटना के बाद पीजी पर शिकंजा कसने की बात कही जाती है लेकिन कार्रवाई किसी पर नहीं हुई। पिछले साल ग्रेटर मोहाली एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (गमाडा) की ओर से अवैध तौर पर चल रहे पीजी को सील करने की बात कही गई थी। पूरे जिले में कुल 16 पीजी ही रजिस्टर्ड हैं। बाकी पीजी अवैध चल रहे हैं। जिनमें चंडीगढ़ जैसा हादसा कभी भी हो सकता है। पिछले वर्ष गमाडा की ओर से नोटिस भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। सेक्टर-88 स्थित पूरब अपार्टमेंट में अवैध तौर पर पीजी चलाने वाले 14 लोगों को नोटिस जारी किए गए थे। लेकिन कार्रवाई कोई नहीं की गई। लोगों की ओर से भी बार-बार शिकायत दी जाती रही है। आठ मरले से ऊपर पीजी चलाने की अनुमति

आठ मरले से ऊपर मकान वाले पीजी चला सकते हैं। मोहाली में लगातार बढ़ रहे क्राइम के चलते एसएसपी मोहाली की ओर से भी गमाडा व प्रशासन को अवैध तौर पर पीजी चलाने वालों पर कार्रवाई करने के लिए लिखा गया था। लेकिन इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई। निगम के पार्षद भी पीजी पर कार्रवाई करने की मांग समय-समय पर करते आ रहे हैं। मोहाली के डीसी गिरिश दयालन ने कहा कि चंडीगढ़ के हादसे की जानकारी मिली है। मोहाली में भी अवैध पीजी के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!