जेएनएन, मोहाली। कुलदीप सिंह दीपा नाम के व्यक्ति को नशे सहित काबू करने के बाद उसे सात लाख 80 हजार रुपये लेकर छोड़ने के मामले में गिरफ्तार सब इंस्पेक्टर सुखमंदर सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मामले में अब एसटीएफ ने एक महिला को गिरफ्तार किया है। उसकी पहचान ज्योति निवासी गांव राईयां वाला फरीदकोट के रूप में हुई है। आरोप है कि कुलदीप सिंह दीपा से पुलिस ने जो 7 लाख 80 हजार रुपये हासिल किए थे उन रकम में से पांच लाख रुपये ज्योति के जरिए ही उपलब्ध कराए गए थे। पुलिस अब ज्योति को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

वीरवार को पेशी के बाद कोर्ट रूम से बाहर आकर ज्योति ने आरोप लगाया कि उसे जानबूझ कर इस मामले में फंसाया जा रहा है। जबकि उक्त रकम उस समय सीआइए इंचार्ज रहे सतवंत सिद्धू को दी गई थी। उसने आरोप लगाया कि उससे अभद्र तरीके से पुलिस मुलाजिम बात करते हैं। यही नहीं उसने अपने आरोप में यह भी कहा कि पैसे कहां से आए और किससे आए इसकी जानकारी एसटीएफ के मौजूदा डीएसपी राजन परमिंदर को भी है। बता दें कि सतवंत सिद्धू पर इससे पहले भी उक्त रकम लेने का आरोप लगा था, लेकिन यह आरोप साबित नहीं हो सके थे। एक बार फिर ज्योति द्वारा सतवंत सिद्धू पर रकम लेने के आरोप से उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

एसटीएफ ने इस मामले में कुछ दिन पहले मनिंदर सिंह व लवप्रीत सिंह नाम के युवकों को गिरफ्तार किया था। इन दोनों की पूछताछ के बाद ज्योति नाम की महिला की शमूलियत सामने आई थी, क्योंकि ज्योति दोनों की अच्छी जानकार थी। एसटीएफ ने यह भी दावा किया था कि मनिंदर व लवप्रीत से जबरदस्ती लिए गए पैसों से एक लाख रुपये बरामद कर लिए गए थे।

मुझे इस बारे में पता चला है कि महिला ने किसी पुलिस ऑफिसर का नाम लिया है। अभी जांच बंद नहीं हुई है चल रही है। मामले में पता लगाया जा रहा कि असल बात है क्या। - हरप्रीत सिंह, एआइजी एसटीएफ मोहाली

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!