जेएनएन, चंडीगढ़ : गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल सेक्टर-32 में काम करने वाली लेडी स्टाफ नर्स को अब काम के दौरान पल-पल अपने लाडले की चिंता नहीं सताएगी। क्योंकि हॉस्पिटल प्रशासन उनकी इस चिंता को दूर करने के लिए परिसर में क्रेच स्थापित करने की योजना बना रहा है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो चंद महीनों में यह सुविधा बहाल हो जाएगी। फिर ड्यूटी के दौरान लेडी नर्सिंग स्टाफ अपने बच्चों को क्रेच में रखकर बेफिक्र होकर मरीजों को बेस्ट सर्विस दे पाएंगी। 

हॉस्पिटल में 525 में से 400 है लेडी स्टाफ

जीएमसीएच-32 में तैनात 525 नर्सिंग स्टाफ में लेडी की संख्या 400 है। इनमें से ज्यादा कर्मियों के छोटे बच्चे हैं। इसस पहले उन्होंने कई बार कॉलेज प्रशासन से क्रेच की सुविधा के लिए डिमांड भी की थी। लेकिन किन्हीं कारणों से अब तक क्रेच शुरू नहीं हो सका। कॉलेज प्रशासन के अनुसार सोशल वेलफेयर की ओर से यह सुविधा शुरू कराई जाएगी। 

अवकाश न मिलना बना परेशानी का कारण

स्टाफ की कमी व मरीजों की ज्यादा संख्या के कारण जीएमसीएस-32 के स्टाफ को छुट्टियां बहुत कम मिलती है। हॉस्पिटल नर्सिंग वेलफेयर एसोसिएशन के प्रेसिडेंट डबकेश कुमार का कहना है कि तय छुट्टियां न मिलने के कारण पूरा नर्सिंग स्टाफ तनाव में है। जिनके छोटे बच्चे हैं वह नर्सेज तो धीरे-धीरे नौकरी छोड़ रही हैं। हॉस्पिटल प्रशासन को अब इनके लिए कोई न कोई व्यवस्था करनी ही होगी।

 

स्टाफ नर्स में महिलाओं की संख्या 60 से 70 प्रतिशत है। ड्यूटी के दौरान उन्हें बच्चों की चिंता सताती रहती है। जिनके बच्चे छोटे हैं उनके लिए यहां क्रेच की व्यवस्था करने का प्रयास किया जा रहा है। 

डॉ. बीएस चवन, डायरेक्टर जीएमसीएच-32

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Vipin Kumar