मोहाली, जेएनएन। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू व निगम मेयर कुलवंत सिंह के बीच शहर के विकास को लेकर चल रही क्रेडिट वार में अब अकाली पार्षद भी उतर आए हैं। शुक्रवार को अकाली पार्षदों ने स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू को खुली बहस करने का न्योता दे दिया।

अकाली पार्षदों ने कहा कि मंत्री बताए कि कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कितनी ग्रांट निगम व शहर के विकास के लिए लेकर आए? मंत्री सिर्फ शोहरत हासिल करने के लिए ग्रांटें देने का दावा कर रहे हैं। अगर पार्षद शहर के बदहाल पड़े सिविल अस्पताल व डिस्पेंसरियों की हालत सुधार दे तो उनका न सिर्फ सम्मान किया जाएगा बल्कि धन्यवाद प्रस्ताव भी निगम बैठक में लाया जाएगा। अकाली पार्षदों ने दावा किया कि मेयर कुलवंत सिंह ने शहर के विकास के लिए अपने कार्यकाल में 300 करोड़ की राशि खर्च की है जब अकालियों की सरकार थी।

54 लाख क्यों दिए 12 करोड़ लेकर आते मंत्री

पार्षद पर¨मदर ¨सह सोहाना, पार्षद सुखदेव ¨सह पटवारी आदि ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री 54 लाख रुपये की ग्रांट देकर वाहवाही लूट रहे हैं। अगर मंत्री हैं तो 12 करोड़ लेकर आता। 54 लाख तो निगम की दो दिन की कमाई है। पार्षदों ने कहा कि पांच अगस्त को निगम की बैठक में शहर की खस्ताहाल डिस्पेंसरियों व अस्पताल को सुधारने की जिम्मेदारी निगम को देने को कहा गया था, लेकिन आज तक इस प्रस्ताव पर मुहर नहीं लगी। मंत्री अपने विभाग के काम करने की बजाए निगम में दखलअंदाजी कर रहे हैं।

ये दिया पार्षदों ने खर्च का लेखा-जोखा

अकाली पार्षदों ने कहा कि पिछले साढ़े तीन साल में विकास पर जो 300 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इसमें से 169 करोड़ रुपये निगम की बैठकों में पास किए गए। जिन से अलग अलग वार्डों में विकास के काम करवाए गए। 131 करोड़ वित्त व ठेका कमेटी में पास हुए। जिसमें से 78 करोड़ से विभिन्न वार्डो में और 38 करोड़ रुपये के जनरल काम करवाए गए। 15 करोड़ के पब्लिक हेल्थ के काम करवाए गए। पार्षदों ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले मंत्री ने शहर के लोगों से वायदा किया गया था कि प्रॉपर्टी टैक्स माफ करवाया जाएगा। बि¨ल्डग एक्सटेंशन फीस से निजात दिलवाई जाएगी। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!