मोहाली, जेएनएन। ग्रेटर मोहाली एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (गमाडा) को बिल्डर करोड़ों रुपये का चूना लगा रहे हैं। लेकिन गमाडा ने अब ऐसे बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर ली है। गमाडा की ओर से 25 से ज्यादा बिल्डरों को नोटिस जारी किया गया है। गमाडा अधिकारियों के मुताबिक बिल्डरों की ओर से पंजाब अपार्टमेंट एंड प्रॉपर्टी रेगुलेशन एक्ट का उल्लंघन करते हुए ईडीसी चार्जेज जमा नहीं करवाए जा रहे है।

गमाडा अधिकारियों के मुताबिक अलग-अलग बिल्डरों की लगभग तीन करोड़ की राशि बकाया है। हालांकि बिल्डरों का कहना है कि वे कुल राशि का 70 फीसदी से ज्यादा (अपने अपने हिस्से का) जमा करवा चुके हैं। उधर गमाडा की ओर से एक्ट की धारा 5 के तहत बिल्डरों को नोटिस जारी किए हैं। नोटिसों में जल्द से जल्द बाकी बचा शुल्क जमा करवाने के लिए कहा गया है। गमाडा की ओर से ईडीसी की गणना विकसित की जाने वाली भूमि के क्षेत्र के आधार पर की जाती है। जिसका भुगतान किश्तों में किया जा सकता है। अगर बिल्डर ऐसे करने में असफल होता है तो 10 फीसदी सामान्य और 3 फीसदी ब्याज लगाया जाता है।

अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार बिल्डरों द्वारा भुगतान की गई राशि का इस्तेमाल पानी की आपूर्ति, सीवरेज प्रणाली और बिजली ग्रिड सहित बाहरी सेवाओं के विकास पर खर्च किया जाता है। लेकिन मोहाली क्षेत्र में विकसित कॉलोनियों में मूलभूत सुविधाएं तक नहीं है। लोगों का कहना है कि ईडीसी तो वसूली जा रही है लेकिन काम नहीं करवाए जा रहे। गमाडा के चीफ इंजीनियर सुनील कंसल ने कहा उक्त राशि से क्षेत्रों का विकास किया जाता है। उक्त राशि आने व अधिकारियों की ओर से निर्देश मिलने पर लंबित पड़े कार्य शुरू किए जाएंगे।

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!