जेएनएन, चंडीगढ़/संगरूर। स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को शिअद अध्यक्ष व पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल पर जमकर हमला बोला। संगरूर में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि मां का दूध पीया है सुक्खा गप्पी (सुखबीर बादल) तो पंजाब के मुद्दों पर कहीं भी मुझसे बहस कर ले। बादल गांव के बाहर ही कुर्सी बिछा ले, मैं बहस के लिए पहुंच जाऊंगा। अगर बहस में सुखबीर बादल जीत गया तो मैं हमेशा के लिए राजनीति छोड़ दूंगा।

शिअद अध्यक्ष को बताया राजनीति का जोकर, कहा-किसी भी जगह बहस को हूं तैयार

सिद्धू ने मंच से ही सुखबीर बादल को नया नाम आलू दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि सुखबीर ने अकाली-भाजपा सरकार के दस वर्ष के कार्यकाल के दौरान आधे पंजाब जितनी अपनी प्रॉपर्टी बना ली। बादलों के पास केवल एक बस थी, लेकिन सरकार के कार्यकाल के दौरान पंजाब को लूट-लूट कर आठ ट्रांसपोर्ट कंपनियों में अब 850 बसों का बेड़ा है। पंजाब का दो लाख करोड़ रुपये बादलों ने खा लिया।

यह भी पढ़ें: सियासी जंग में टूटी मर्यादा, सुखबीर को कहा सुक्‍खा व बेशर्म तो सिद्धू और मनप्रीत को बताया

चंडीगढ़ में सिद्धू ने सुखबीर को राजनीति का जोकर बताया। उन्‍होंने कहा कि पंजाब के लोग एक गंभीर सरकार व प्रशासन चाहते हैं, जो कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह दे रहे हैं। अकाली सरकार के 10 साल के कार्यकाल में पंजाब में जो हुआ वह किसी से छिपा नहीं है। इसलिए अब लोग अकाली दल को दोबारा सत्ता में नहीं आने देना चाहते हैं।

पंजाब वासियों को फिर धोखा दे रहे सुखबीर : जाखड़

पंजाब कांग्रेस कमेटी के प्रधान व सांसद सुनील जाखड़ ने कहा कि अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल पंजाब के लोगों को फिर धोखा दे रहे हैं। सुखबीर द्वारा बजट सत्र के पहले दिन विधानसभा के घेराव की घोषणा की निंदा करते हुए कहा कि सुखबीर एक बार फिर उल्टे-सीधे आरोप लगाकर पंजाबियों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा का घेराव करना अलोकतांत्रिक है।

यह भी पढ़ें: अभिनव प्रयोग : चूहे खेल रहे चेस और विज्ञानी जांचेंगे याददाश्त

उन्‍होंने कहा कि अकाली नेता कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अभी तक विधानसभा के अंदर हंगामा करके असल मुद्दों पर बहस करने से भागते हैं। जाखड़़ ने कहा कि घटिया व गलीछाप सियासत करके अकाली दल लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहा है। जाखड़ ने यह भी आरोप लगाया कि सुखबीर गुरु नानक देव जी के 550 साला प्रकाशोत्सव को लेकर बुलाई गई बैठक में भी शामिल नहीं हुए। उनकी विचारधारा विघटनकारी है।

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!