चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब के स्‍थानीय निकाय एवं पर्यटन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने एक खास दंपती को देखा तो उस पर माेहित हो गए। वह इस जोड़ी पर इस कदर फिदा हुए कि उसे गोद लने का फैसला किया। वह जीरकपुर के छत्तबीड़ चिडिय़ाघर गए थे और वहां शेर अमन और शेरनी दीया को गोद लेने की घोषणा की। सिद्धू ने चिडिय़ाघर के विकास कार्यों का जायजा लेने पहुंचे थे।

रेंज अफ़सर हरपाल सिंह का कहना है चिडिय़ाघर घर के इतिहास में पहली बार किसी ने दो बाघों (नर व मादा जोड़ी) को गोद लिया है। बंगाली टाइगर अमन की उम्र छह साल और दीया की पांच साल है। इन के खाने-पीने, रहन-सहन पर सालाना चार लाख रुपये ख़र्च आता है।

छतबीड़ जू में शेर और शेरनी।

उन्‍होंने बताया कि गोद लेने के बाद सारा खर्च संबंधित व्यक्ति को देना पड़ता है। चिडिय़ाघर प्रशासन की तरफ से स्पांसर राशि के साथ जानवर गोद लेने की स्कीम के बारे में भी सिद्धू को बताया गया। इसके तुरंत बाद सिद्धू ने दोनों को गोद लेने की घोषणा कर दी। अमन का रंग गोल्डन और दीया का रंग सफेद है।

इस मौके पर पर्यटन विभाग की तरफ से नौ लाख की लागत से तैयार बस का उद्घाटन किया गया। इस बस की खासियत यह है कि इसमें पंजाब के ऐतिहासिक, धार्मिक व पर्यटन स्थलों के बारे में वीडियो, ऑडियो चित्रों के जरिये जानकारी दी गई है।

नवजोत सिंह सिद्धू ने छतबीड़ जू में एक तोते को देख दुलारा तो उसने यूं दिया जवाब।

सिद्धू ने बताया कि यह बस पंजाब के हर मेले की पार्किंग में खड़ी कर लोगों को पंजाब के महान इतिहास की जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह चिडि़याघर के नवीनीकरण व विकास कार्य पूरा होने पर उद्घाटन करेंगे।

कई लोगों की मदद कर चुके हैैं सिद्धू

इससे पहले सिद्धू की तरफ से पिछले साल दशहरा के दिन अमृतसर में हुए रेल हादसे के पीडि़त सात परिवारों को सात हजार रुपये प्रति माह देने की घोषणा की थी। अमृतसर में ही आग से गेहूं की फसल बर्बाद होने पर किसान की लाखों रुपये की सहायता की थी। पिछले वर्ष पंजाबी नाटककार अजमेर सिंह औलख के इलाज के लिए आठ लाख रुपये दिए थे।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!