चंडीगढ़, [कैलाश नाथ]। पंजाब के कैबिनेट मंत्री व कांग्रेस के स्टार प्रचारक नवजोत सिंह सिद्धू का अंदाज कुछ अलग ही है। गुरु सिद्धू के बारे में कहा गया था कि उनकी आवाज बंद हो गई है और डॉक्‍टरों ने उनको आराम करने और पूरी तरह चुप रहने काे कहा है। लेकिन, सिद्धू अगले ही दिन कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की रैली में भाषण करते नजर आए। सिद्धू अपने अंदाज में बोले और विरोधियों पर जमकर बरसे व ठोको ताली-ठोको ताली कहते नजर आए। 

प्रियंका के साथ पहुंचे बठिंडा रैली में, जोश देख नहीं लगा कि गला खराब है

सोमवार को सिद्धू के कार्यालय से बताया गया था कि उनका गला खराब हो गया है और चार दिन तक डॉक्टर ने आराम करने को कहा है। यही नहीं, उनकी पत्नी ने भी कहा था कि सिद्धू पंजाब में प्रचार नहीं करेंगे, लेकिन मंगलवार को सिद्धू कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी के साथ बठिंडा रैली में पहुंचे और संबोधित भी किया।

बठिंडा रैली में इस अंदाज में नजर आए नवजाेत सिंह सिद्धू।

सिद्धू के कार्यालय ने कहा था वोकल कॉर्ड में समस्या है, चार दिन चुप रहेंगे

सिद्धू के कार्यालय की ओर से कहा गया था कि देश भर में 80 रैलियों को संबोधित करने के कारण उनके वोकल कॉर्ड में समस्या आ गई है। मंगलवार को सिद्धू न सिर्फ बठिंडा में बोले बल्कि उन्होंने बादलों के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। उनके जोश से कहीं भी ऐसा नहीं लग रहा था कि उनके वोकल कॉर्ड में समस्या है।

दूसरी ओर, पंजाब कांग्रेस अभी तक उन्हें राज्‍य में चुनाव प्रदेश में प्रचार से दूर रखे हुए थी। यही कारण है कि नवजोत सिंह सिद्धू की पत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने कांग्रेस की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी पर आरोप लगाया थे कि वह उन्हें (नवजोत सिंह सिद्धू ) पंजाब में चुनाव प्रचार से रोक रही हैं।

पठानकोट में प्रियंका गांधी वाड्रा के रोड शो में भाषण देते नवजोत सिंह सिद्धू।

मंगलवार को तस्वीर उस समय बदली जब दिल्ली में प्रियंका ने सिद्धू को बुलाया और बैठक की। उन्हें पंजाब चलने के लिए कहा। इस बैठक में राहुल गांधी भी मौजूद थे। सिद्धू पंजाब में प्रचार नहीं करना चाहते थे  लेकिन प्रियंका के कहने पर वे बठिंडा व पठानकोट पहुंचे। प्रियंका का पंजाब में यह पहला दौरा था। सिद्धू प्रियंका के गुड बुक में शामिल हैं। प्रियंका के प्रयास से ही सिद्धू ने कांग्रेस ज्वाइन की थी।

कैप्टन की तरफ न देखा न बात की

बठिंडा रैली में सिद्धू व मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच दूरियां साु नजर आई। सिद्धू ने न तो कैप्टन की तरफ देखा और न ही उनसे बात की। 17 मई को बठिंडा में दौरा करने को लेकर उन्होंने कहा कि अगर यहां से प्रत्याशी राजा वडिंग कहेंगे तो वह उस दिन 10 रैलियां करेंगे। अपने भाषण में उन्होंने बादलों पर जमकर हमला बोला। हालांकि आज वित्त मंत्री मनप्रीत बादल व राजा वडि़ंग के कहने पर भी वह बोलने को तैयार नहीं थे। जब प्रियंका ने बोलने के लिए कहा तब तैयार हुए

-------

कैप्टन व आशा कुमारी ने कटवाई मेरी टिकट : डॉ. नवजोत कौर सिद्धू

अमृतसर। दूसरी ओर नवजोत सिंह सिद्धू की धर्मपत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आशा कुमारी ने अमृतसर से उनकी टिकट कटवाई है। उन्होंने कहा कि मेरी टिकट अमृतसर से यह कहकर काटी गई कि दशहरा पर अमृतसर में रेल हादसा हुआ, इसलिए मैडम सिद्धू यहां से जीत नहीं सकतीं, डिजर्व नहीं कर सकतीं। जो लोग हमारे बारे में यह सोचते हैं कि हम पंजाब का कोई भला कर सकते हैं, फिर उनके लिए कुछ करने का क्या फायदा।

सिद्धू के पंजाब में प्रचार न करने की बात पर उन्होंने कहा कि जब छोटे कैप्टन व आशा कुमारी प्रदेश की सभी 13 सीटें जीतने की बात कह रही हैं तो सिद्धू की यहां जरूरत नहीं रह जाती। उन्‍होंने कहा, कैप्टन अमरिंदर साडे छोटे कैप्टन हैं, जबकि वड्डे कैप्टन राहुल गांधी हैं।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!