जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। समान काम-समान वेतन की मांग को लेकर नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) के वर्कर दूसरे दिन मंगलवार को भी हड़ताल पर रहे। इससे मंगलवार को डिस्पेंसरियों में होने वाला एंटीनेटल यानि प्रसव पूर्व जांच नहीं हुई। वर्करों ने सेक्टर-16 स्थित गवर्नमेंट मल्टी स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में सुबह 8 बजे से दोपहर 3 बजे तक काम ठप कर प्रदर्शन किया।

एनएचएम वर्करों के समर्थन में जीएमएसएच की ज्वाइंट एक्शन कमेटी के साथ ही पीजीआइ कॉन्ट्रेक्ट वर्कर, यूटीएसएस फेडरेशन, आइएनटीयूजी, एआइटीयूसी, यूटी बिल्डिंग एंड मेंटेनेंस एसोसिएशन के पदाधिकारी भी उतर आए हैं। उनका कहना है कि वर्करों की मांग जायज है। इसे पूरा किया जाना चाहिए। हड़ताल के कारण जीएमएसएच के साथ ही 45, 22 और मनीमाजरा स्थित डिस्पेंसरियों में काम प्रभावित हुआ। हड़ताल में एनएचएम के तहत तैनात डॉक्टर, एएनएम, स्टाफ नर्स, आरएनपीसीपी, एसटीएलएस, एमपीडब्ल्यू, डाटा ऑपरेटर, काउंसलर, फोर्थ क्लास और ड्राइवर शामिल हैं। इनकी हड़ताल से ओपीडी, टीकाकरण, जननी सुरक्षा कार्यक्रम, टीबी प्रोग्राम, काउंसलिंग और सफाई समेत स्वास्थ्य विभाग की लगभग सभी यूनिट में काम प्रभावित हुआ। एनएचएम वर्कर एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी अमित कुमार ने बताया कि हड़ताल के कारण अस्पतालों और डिस्पेंसरियों में अनट्रेंड स्टाफ से इलाज कराया जा रहा है।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Vikas Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!